राफेल विमान की हवा में ही ईंधन भरने की तस्वीर आई सामने ! जानें विमान की खूबियां ! कुछ ही घँटों में आज भारत की धरती अंबाला एयरबेस पर उतरेगा राफेल..!

न्यूज डेस्क। अत्‍याधुनिक मिसाइलों और घातक बमों से लैस भारतीय वायुसेना के सबसे घातक फाइटर जेट राफेल 29 जुलाई (बुधवार) को अंबाला पहुंचने वाला है। राफेल लड़ाकू जेट विमान के हवा के बीच ही ईंधन भरने की तस्वीरें सामने आईं हैं।

राफेल की इस पहली रोमांचक उड़ान पर भारतीय वायुसेना का कहना है कि हमारी राफेल यात्रा के लिए प्रांसीसी वायुसेना द्वारा दिए गए समर्थन की हम सरहाना करते हैं। वहीं, इस पर भारत में फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनिन ने कहा कि भारतीय तकनीशियनों और पायलटों ने फ्रांस में अपनी ट्रेनिंग पूरी कर ली है। वे पूरी तरह से इन विमानों को उड़ाने में सक्षम हैं।

राफेल में वो सारी चीजें मौजूद हैं जो एक युद्धक विमान में होती हैं। राफेल का निशाना अचूक है। राफेल ऐसा हथियार है, जो दुश्मन को न केवल जवाब देता है बल्कि उसे हमला करने का मौका भी नहीं देता है। राफेल की अधिकतम स्पीड 2222 किमी/घंटा है बताया जा रहा है कि राफेल एक मिनट में 60 हजार फुट की ऊंचाई तक जा सकता है। राफेल विमान में भारतीय वायुसेना के हिसाब से फेरबदल किए गए हैं यानी भारतीय वायुसेना के हिसाब से ये विमान युद्ध क्षेत्र में बिल्कुल फिट बैठता है।

मजबूत लक्ष्य को ध्वस्त करने में है सक्षम

भारत आ रहे राफेल विमानों की मारक क्षमता बढ़ाने के लिए इसमें फ्रांस निर्मित हैमर मिसाइल लगाने की तैयारी हो रही है। ये मिसाइल 60 से 70 किमी की दूरी पर भी मजबूत से मजबूत लक्ष्य को ध्वस्त करने में सक्षम है। हाइली एजाइल माड्युलर म्यूनिशन एक्सटेंडेड रेंज (हैमर) हवा से जमीन पर मार करने वाली मीडियम रेंज की मिसाइल है। यह मिसाइल शुरुआत में फ्रांस की वायुसेना और नौसेना के लिए बनाई गई थी। इस मिसाइल से भारतीय वायुसेना दुश्मनों के बंकर को सटीक निशाना बना सकती है। राफेल विमानों उसमें लगने वाली स्कैल्प और मीटियोर मिसाइल पहले ही भारत पहुंच गई हैं।

लक्ष्य को निशाना बनाने में सक्षम

राफेल हवा से हवा में मार करने वाली मीटियोर मिसाइलों से लैस है, जो 150 किमी दूर लक्ष्य को निशाना बनाने में सक्षम है। बिना सीमा पार किए यह दुश्मन के विमानों को निशाना बना सकती हैं। रडार गाइडेड और ध्वनि की गति से 4 गुना ज्यादा तेज है। चीन और पाकिस्तान के पास इसके मुकाबले की कोई मिसाइल नहीं है। साथ ही राफेल में स्कैल्प मिसाइल 600 किमी दूर से अचूक निशाना लगाने में सक्षम है।