भोरमदेव अभ्यारण्य बनेगा टाइगर रिज़र्व, बोर्ड की बैठक में लिया गया फैसला

  • Agency 
bhoramdev tiger reserve

Bhoramdev sanctuary become tiger reserve

रायपुर. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में दसवी छत्तीसगढ़ राज्य वन्य जीव बोर्ड की हुई बैठक में कवर्धा स्थित भोरमदेव अभ्यारण्य को टाइगर रिज़र्व बनाने की मंजूरी मिल गई है| भोरमदेव अभ्यारण्य को टाइगर रिजर्व घोषित करने के लिए कोर और बफर क्षेत्र निर्धारित करने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। इसका कुल क्षेत्रफल 624 वर्ग किमी. है जिसमे 318 वर्ग किमी. कोर क्षेत्र और 305 वर्ग किमी. बफ़र क्षेत्र होगा| अब यह प्रस्ताव नेशनल टाइगर कन्जर्वेशन अथॉरिटी नई दिल्ली को भेजा जाएगा। मंजूरी मिलते ही भोरमदेव टाइगर रिजर्व देश का 51वां तथा राज्य का चौथा टाइगर रिजर्व बन जायेगा| अभ्यारण्य पर्यावरण टाइगर रिजर्व के लिए अनुकूल है| इससे प्रदेश में पर्यावरण आधारित इको पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा| बैठक में यह जानकारी भी दी गई कि सूरजपुर जिले की प्रतापपुर तहसील में स्थित तैमोर पिंगला अभयारण्य में हाथी बचाओ एवं पुनर्वास केन्द्र की स्थापना के प्रस्ताव को केन्द्रीय चिड़िया घर प्राधिकरण से अनुमति मिल गई है और साथ ही प्रदेश में ईको टूरिज्म के शुभंकर ‘श्यामू-राधे’ के डिजाइन को भी स्वीकृति दी गई|

राज्य का चौथा टाइगर रिजर्व

छत्तीसगढ़ सरकार ने वन्य जीवो के संरक्षण के लिए कई कदम उठाये हैं और यह कदम बतलाता है राज्य सरकार पर्यावरण के प्रति सजग है| भोरमदेव अभ्यारण्य के टाइगर रिज़र्व बनते ही यह राज्य का चौथा टाइगर रिज़र्व बन जायेगा इसके पहले उदंती-सीतानदी, इंद्रावती और अचानकमार अभयारण्य को टाइगर रिजर्व घोषित किया जा चुका है| बैठक में संसदीय सचिव तोखन साहू, विधायक चिंतामणि महाराज और अशोक साहू, मुख्य सचिव विवेक ढांड, पुलिस महानिदेशक एएन उपाध्याय, प्रधान मुख्य वन संरक्षक आरके सिंह , वन विभाग के प्रमुख सचिव आरपी मंडल, मुख्यमंत्री के सचिव सुबोध कुमार सिंह, और पक्षी विशेषज्ञ एएमके भरोस सहित अनेक विषय विशेषज्ञ और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे|

 

यह भी पढ़े…मधुमेह दिवस पर छत्तीसगढ़ ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, साढ़े 6 लाख से ज्यादा लोगों ने जाँच करवाया अपना बीपी और शुगर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *