24×7 Breking News: आईसीएमआर का सामुदायिक प्रसार जाँच का सर्वे पूरा, नतीजे 10 जून तक

दिल्ली 27 मई:- क्या देश में लॉकडाउन के बाद चली ट्रेन और विमान सेवा का असर कोरोना संक्रमण के सामुदायिक विस्तार पर पड़ा है? मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने देश के सबसे ज्यादा मामलों वाले दस शहरों व 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सेरोसर्वे किया है। इसमें 60 जिलों में 24 हजार लोगों का रैंडम सैंपल लेकर उनमें कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए जांच की गई। सर्वे के नतीजे 10 जून तक आने की संभावना है।
आईसीएमआर के इस सर्वे से यह पता लग सकेगा कि संक्रमण का सामुदायिक विस्तार हुआ है या नहीं। इसके अलावा अब आईसीएमआर ने जांच के दायरे को दो लाख तक ले जाने के लिए कवायद भी शुरू कर दी है।

सर्वे का प्रोटोकाल तैयार करने के लिए आईसीएमआर ने अन्य एजेंसियों की मदद ली है। इसमें सबसे ज्यादा मामले वाले शहर मुंबई, ठाणे, पुणे, इंदौर, अहमदाबाद, सूरत, जयपुर, दिल्ली, आगरा और चेन्नई शामिल हैं।
जिन्हें आबादी में संक्रमण के हिसाब से शून्य, निम्न, मध्यम और उच्च में बांटा गया है। इसके तहत हर श्रेणी के 15 जिलों का चयन किया गया है। इन नमूनों का आकलन करके सामुदायिक संक्रमण के ट्रेंड का पता लगाया जाएगा। एक घर से एक ही व्यक्ति को चुना जाएगा। इस सर्वे के नतीजों के बाद ही लॉकडाउन को बढ़ाए जाने को लेकर फैसला किया जाएगा।