21वीं सदी के स्वप्नदृष्टा महानायक स्व. राजीव गांधी का योगदान अविस्मरणीय है : उमेश नंदकुमार पटेल

रायपुर 21 मई 2020। भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री शहीद स्व. श्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर उच्चशिक्षा मंत्री श्री उमेश नंदकुमार पटेल ने उन्हें अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित किया है। श्री उमेश नंदकुमार पटेल ने कहा कि आज के दिन को हमारी छत्तीसगढ़ सरकार “आतंकवाद विरोधी दिवस” के रूप में मना रही है। देश के लिए अपना रक्त बहाकर सर्वस्व न्यौछावर करने वाले राजीव गांधी जी के विषय में बात करते हुए उन्होंने कहा कि-

“शहीद स्व. श्री राजीव गांधी ने उन्नीसवीं सदी में इक्कीसवीं सदी के भारत का सपना देखा था। राजीव गांधी जी में आधुनिक सोच और निर्णय लेने की अद्भुत क्षमता थी। वे भारत देश को दुनियां की उच्च तकनीकों से पूर्ण करना चाहते थे। वे हमेशा कहते थे, भारत वर्ष की एकता और अखंडता को बनाए रखने के साथ ही उनका उद्देश्य व मकसद केवल इक्कीसवीं सदी के भारत का निर्माण है। अपने इसी सपने को साकार करने के लिए उन्होंने देश में संचार क्रांति, कम्प्यूटर क्रांति, शिक्षा का प्रसार, 18 साल के युवाओं को मताधिकार, पंचायती राज जैसे अन्य कई बड़े – बड़े योजनाओं को मूर्त रूप देकर देशवासियों को समर्पित किया है। राजीव गांधी जी को कम्प्यूटर क्रांति के जनक के रूप में याद किया जाता है। आज हर हाथ में दिखने वाला मोबाइल उन्हीं के फैसलों का नतीजा है। युवा सोच वाले राजीव गांधी जी को 21 वीं सदी के भारत का निर्माता भी कहा जाता है। राजीव गांधी जी देश के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री थे और दुनियां के उन युवा राजनेताओं में से एक हैं, जिन्होंने सरकार की अगुवाई की है।अपने प्रधानमंत्री काल में राजीव गांधी जी ने नौकरशाही में सुधार लाने और देश की अर्थव्यवस्था के उदारीकरण के लिए अनेकों कारगर कदम उठाए हैं जिनमें उन्हें सफलता भी प्राप्त हुई है। राजीव गांधी जी अपने विरोधियों की मदद के लिए भी हमेशा तैयार रहते थे और राजनैतिक विरोधाभाष को दरकिनार करते हुए मानवता को प्राथमिकता दिया करते थे। स्वतंत्र भारत शहीद स्व. श्री राजीव गांधी जी के अविस्मरणीय योगदान के लिए हमेशा उनका ऋणी रहेगा आज स्व. राजीव गांधी जी की पुण्यतिथि पर उनके द्वारा देशहित के लिए किये गए समस्त योगदानों को स्मरण करते हुए श्रद्धासुमन अर्पित करता हूँ।”

विदित हो कि आज पूरे छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार द्वारा “राजीव गांधी किसान न्याय योजना” का शुभारंभ कर राज्य के लाखों किसानों को इस योजनाओं से लाभान्वित कर उन्हें इस योजना को समर्पित किया गया है।