रेल में यात्रा करने से पूर्व इन सब निर्देशों का पालन करना होगा,

भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने लॉकडाउन के चौथे चरण में भी आम लोगों के लिए ट्रेन सेवाओं को पूरी तरह से नहीं खोला है. रेलवे ने 12 मई से दिल्ली से देश के विभिन्न राज्यों के लिए 15 जोड़ी ट्रेन चला रहा है. केंद्र सरकार ये स्पष्ट कर चुकी है कि लॉकडाउन के चौथे चरण यानी 31 मई तक कोई ट्रेन या हवाई सेवा नहीं चलने वाली. फिलहाल के लिए केवल 15 ट्रेनें ही चलेंगी. वैसे इन 15 ट्रेनों के लिए रेलवे ने कई दिशानिर्देश जारी किए हैं. आइये आपको बताते हैं इन दिशा-निर्देशों के बारे में सबकुछ..

यात्रा के दौरान मास्क का इस्तेमाल करें, सोशल डिस्टेंस मेंटेन करें और हाथ धोते रहें.

>> यात्रा के दौरान आप अपने मोबाइल में आरोग्य सेतू ऐप डाउनलोड करें. यात्रा के लिए यह जरूरी है.

>> सभी यात्री इस बात को समझ लें कि गंतव्य पर पहुंचने के बाद आपको उस राज्य या केंद्र शासित प्रदेश के नियमों के हिसाब से स्वास्थ्य संबंधी जांच करवाना होगा.

>> 30 जून 2020 तक रद्द की गईं ट्रेनों में टिकट कराने वालों को irctc की ओर से ऑटोमेटिकली फुल रिफंड दिया जाएगा. ऐसे यात्रियों को अपना ई-टिकट रद्द कराने की जरूरत नहीं है.

>> ट्रेन में कैटरिंग सर्विस नहीं है और किराये में कैटरिंग चार्ज नहीं लिया गया है.

>> कोई कंबल और चादर नहीं दिया जा रहा है.

विशेष ट्रेनों में करीब 3 लाख यात्रियों ने बुक की टिकट 
रेलवे द्वारा शुरू की गई विशेष ट्रेनों में अब तक 3 लाख यात्रियों ने टिकट बुक की हैं. भारतीय रेलवे ने कहा है कि यात्री रिजर्वेशन सिस्टम (पीआरएस) के तहत इससे अब तक लगभग 50 करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई हुई है. बता दें कि लॉकडाउन के चलते विभिन्न राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों के लिए रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेन चला रहा है.