रायगढ़/राजीव गांधी किसान न्याय योजना का हुआ शुभारंभ,पंचायत ट्रेनिंग सेंटर में वीडियो कांफ्रेंस में शामिल हुए रायगढ़ के जनप्रतिनिधी व अधिकारी

▪️प्रथम किश्त के तहत जिले के किसानों के खाते में अंतरित किया गया 87 करोड़ 06 लाख रुपए

रायगढ़, 21 मई। देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्व.श्री राजीव गांधी की पुण्य तिथि पर छत्तीसगढ़ सरकार ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना का शुभारंभ किया। योजना का उद्देश्य प्रदेश में फसल उत्पादन को प्रोत्साहित करने और किसानों को उनकी उपज का सही दाम दिलाना है। सोनिया गांधी तथा राहुल गांधी की विडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से मौजूदगी में योजना का शुभारंभ किया गया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने योजना के अंतर्गत प्रथम किश्त की राशि किसानों के खाते में अंतरित की। जिले में किसानों को प्रथम किश्त के रूप में 87 करोड़ 06 लाख रुपए उनके खाते में डीबीटी किया गया।

इस अवसर पर धरमजयगढ़ विधायक लालजीत सिंह राठिया, रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक, लैलूंगा विधायक चक्रधर सिंह सिदार, रायगढ़ नगर निगम महापौर जानकी काटजु, जिला पंचायत अध्यक्ष निराकार पटेल, वर्तमान कांग्रेस के प्रदेश महासचिव व पूर्व ग्रामीण अध्यक्ष दीलीप पाण्डेय, कलेक्टर यशवंत कुमार, एडीएम राजेन्द्र कुमार कटारा, जिला पंचायत सीईओ ऋचा प्रकाश चौधरी, पंचायत ट्रेनिंग सेंटर से विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से शामिल हुए।

राज्य शासन द्वारा खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में समर्थन मूल्य पर धान विक्रय करने वाले किसानों को 2500 रुपए प्रति क्विंटल की दर से धान का भुगतान हेतु यह योजना प्रारंभ की गई है। इसके अंतर्गत समर्थन मूल्य पर उपार्जन के दौरान भुगतान के पश्चात अंतर की राशि को चार किश्तों में किसानों को भुगतान किया जाएगा। ज्ञात हो कि खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में रायगढ़ जिले के 90358 किसानों ने कुल 48 लाख 41 हजार 837 क्विंटल 80 किलो धान उपार्जित किया। इन्हें अब तक 878 करोड़ 79 लाख 39 हजार रूपए की राशि बतौर समर्थन मूल्य मिली। अब 2500 रूपए की दर से अंतर राशि 331 करोड़ 66 लाख 55 हजार रूपए उन्हें राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत चार किश्तों में मिलेगी। आज योजना के शुभारंभ अवसर पर पहली किश्त के रूप में विपणन संघ द्वारा 26.25 प्रतिशत याने 87 करोड़ 06 लाख 22 हजार रूपए की राशि जिले के 90358 किसानों के बैंक खाते में डाली गई।

इस दौरान उप संचालक कृषि एल.एम.भगत, उप पंजीयक सहकारिता शिल्पा अग्रवाल, सहायक संचालक पंचायत महेश पटेल तथा अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।