यशवंत कुमार का नाम रायगढ़ के इतिहास में दर्ज रहेगा

रायगढ़ 27 मई। युद्धकाल में सेनापति तब तक नहीं बदला जाता है जबतक ऐसा करना अपरिहार्य कारणों से जरूरी नहीं हो जाता है । यह एक सामान्य नीति है। तबादला शासकीय सेवा का एक हिस्सा होता है जिससे सभी शासकीय सेवक अच्छी तरह से परिचित होते हैं और यशवंत कुमार अपना बेस्ट परफॉर्मेंस देकर जा रहें हैं । खैर, रायगढ़ कलेक्टर यशवंत कुमार का रायगढ़ से तबादला हो गया है। यशवंत कुमार रायगढ़ से कोई अधिक दूर नहीं गए है वो रायगढ़ के पड़ोस के जिले चांपा -जांजगीर के कलेक्टर बनाये गए हैं। इस जिले का चंद्रपुर तो रायगढ़ के दिल के करीब बसता है भले ही वो भौगोलिक रूप से रायगढ़ जिले का हिस्सा ना हो।
यशवंत कुमार ने जिस तरह से कोरोना संकट में पूरी टीम को आगे से बढ़कर लीड किया और पूरे जिले को सुरक्षित रखा ,उनकी इस सेवाओं के लिए उन्हें हमेशा रायगढ़ में याद रखा जाएगा और उनका नाम रायगढ़ के इतिहास में दर्ज रहेगा ।
एक स्पोर्ट्समैन होने के नाते यशवंत कुमार टीम का महत्व जानते थे और पूरी टीम का नेतृत्व करते हुए पूरी टीम को साथ लेकर चला करते थे ।वो तो रायगढ़ से जा रहें हैं किंतु अपने पीछे एक मजबूत टीम छोड़े जा रहें हैं।
रायगढ़ का नया कलेक्टर भीम सिंह को नियुक्त किया गया है वो एक नई ऊर्जा और जोश के साथ अपना पदभार सम्हालेंगे ।कार्य करने का उनका अपना ही एक तरीका है ,जिसके लिए वो जाने जाते हैं आखिर सैनिक स्कूल से पढ़कर निकला छात्र अनुशासन प्रिय तो होता ही है ।
नए कलेक्टर के कार्य की शुरुआत सम्भवतः रायगढ़ जिले में कोरोना की स्थिति को समझने ,स्वास्थ्य सुविधाओं और क्वारन्टीन केंद्रों के निरीक्षण से हो सकती है ।

वरिष्ठ पत्रकार – अनिल पाण्डेय