डी.एम.एफ से प्राप्त राशि का समय-सीमा में उपयोग करें- कलेक्टर भीम सिंह

जिले के सभी विकासखण्ड मुख्यालय पर खोले जायेंगे ‘यूथ सेंटर ‘

जिला खनिज न्यास निधि से स्वीकृत कार्यों की समीक्षा बैठक संपन्न

रायगढ़ 27 जून 2020:- कलेक्टर भीम सिंह ने आज कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में डी.एम.एफ.(जिला खनिज न्यास निधि) के अंतर्गत विभिन्न विभागों के लिए स्वीकृत कार्यों के प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि पिछले 2-3 वर्षो में स्वीकृत कार्य जिन्हें किसी कारणवश प्रारंभ नही किया जा सका है उन्हें निरस्त कर राशि वापस करें। डीएमएफ के अंतर्गत आम नागरिकों की सुविधा हेतु बहुत से कार्य जैसे स्कूल भवनों का मरम्मत एवं नवीनीकरण, अस्पतालों का उन्नयन, चिकित्सा उपकरणों को क्रय करने ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों की मरम्मत आंगनबाड़ी केन्द्रों के भवनों का निर्माण, पेयजल आपूर्ति जैसे महत्वपूर्ण कार्यों के लिए राशि स्वीकृत की जाती है। इन सब कार्यों को निर्धारित समयावधि में पूर्ण किया जाये और आम नागरिकों को समय से इसका लाभ मिले तभी इसका महत्व सार्थक होगा।

कलेक्टर सिंह ने अधिकारियों को कहा कि आप सभी अधिकारी योग्य और सक्षम है अपने अधीनस्थ शासकीय अमले को और अधिक सक्रिय करें तथा निर्माण मूलक कार्यों की गुणवत्ता और प्रगति की जानकारी स्वयं मैदानी क्षेत्रों में जाकर देखे तभी विभिन्न योजनाओं में तेजी आयेगी।

कलेक्टर सिंह जिले के सभी जनपद पंचायतों के सीईओ से विडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से निर्देशित किया कि जिले के सभी विकास खण्ड मुख्यालयों पर यूथ सेंंटर खोलने हेतु 50 से अधिक युवाओं के बैठने के लिए भवन चिन्हांकित करें। इन यूथ सेंटरों पर प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठने वाले युवा तैयारी करेंगे, यहां पर प्रतियोगी परीक्षाओं से संबंधित पुस्तकों की लायब्रेरी और इंटरनेट की व्यवस्था होगी, जहां से युवा ऑनलाइन फार्म भर सकेंगे। युवाओं के मार्गदर्शन के लिये प्रत्येक केन्द्रों पर एक-एक पर्यवेक्षक नियुक्त किये जायेंगे। यूथ सेंटर प्रारंभ किये जाने वाले भवनों में आवश्यक मरम्मत, पेयजल, शौचालय व्यवस्था तथा रंग-रोगन का कार्य प्रशासन द्वारा कराया जायेगा।

कलेक्टर भीम सिंह ने आगामी दिनों में डेंगू के संभावना को ध्यान में रखते हुये नगर पालिक निगम को फागिंग मशीन क्रय करने और शहर में अभी से मच्छर मुक्ति अभियान प्रारंभ करने के निर्देश दिये। समीक्षा बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री द्वारा एक फाइल गुम हो जाने की जानकारी देने पर कलेक्टर श्री सिंह ने वरिष्ठ अधिकारी से जांच कराने और लापरवाही करने वाले कर्मचारी की जिम्मेदारी तय कर अनुशासनात्मक कार्यवाही करने और फाइल नहीं मिलने पर एफआईआर कराने के निर्देश दिये। उन्होंने डीएमएफ से कराये जाने वाले कार्यों की जानकारी कार्य स्थल पर बोर्ड लगाकर पूर्ण विवरण लागत राशि सहित प्रदर्शित करने के लिए भी निर्देशित किया, ताकि आम नागरिकों को जानकारी मिले।

समीक्षा बैठक के दौरान स्वास्थ्य विभाग, आदिवासी विकास, खाद्य, शिक्षा, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, जल संसाधन, लोक निर्माण, आरईएस, पंचायत, महिला बाल विकास, कृषि, उद्यानिकी, वन विभाग, रोजगार, ऊर्जा (विद्युत), के्रडा, मछली पालन, पशु चिकित्सा तथा अन्य संबंधित विभागों के जिला प्रमुख अधिकारियों ने विभागवार अपनी-अपनी जानकारी प्रस्तुत की। कलेक्टर सिंह ने सभी अधिकारियों को उनके विभागों से संबंधित कार्येां की प्रगति रिपोर्ट और लंबित कार्यों की अद्यतन स्थिति एक सप्ताह के भीतर प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। बैठक के दौरान एडीएम श्री राजेन्द्र कुमार कटारा, जिला पंचायत सीईओ सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी, वनमंडलाधिकारी श्री मनोज पाण्डेय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एस.एन.केशरी सहित सभी विभागों के जिला स्तरीय प्रमुख अधिकारी उपस्थित थे।