छत्तीसगढ़ सरकार राज्य परिवहन निगम को पुनः संचालित करने पर विचार करे

रायगढ़ 15 मई 2020। आज छत्तीसगढ़ के पास अपने राज्य परिवहन निगम की बसों का बेड़ा होता तो उसे दूसरे राज्यों में फंसे छत्तीसगढ़ी श्रमिकों को वापस लाने के लिए रेलवे का मुंह नहीं ताकना होता और ना ही राज्य के अंदर फंसे हुए दूसरे राज्यों के लोगों को छत्तीसगढ़ की सीमा तक भेजने के लिए परेशानी झेलनी होती। कोरोना के संकट से सबक लेते हुए प्रदेश की भूपेश सरकार को एक बार फिर से छत्तीसगढ़ में राज्य परिवहन निगम को संचालित करने पर विचार करना चाहिए ताकि भविष्य में ऐसी कोई स्थिति उत्पन्न हो तो किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े । राज्य में अब जब कभी भी यात्री बसें चलेंगी तो उसमें सोशल डिस्टेंस को मेंटेन कर बसों को सेनेटाइज कर चलाना पड़ेगा परन्तु यात्री बसों में यात्रियों को भेड़ -बकरी की तरह ठूंसकर ,स्लीपर में चार चार सवारी बैठाकर ,मोटा मुनाफा काटने वाले प्रायवेट बस ऑपरेटर नियमों का कितना पालन करेंगे उस पर हमेशा प्रश्नचिह्न लगा रहेगा ? यह समस्या तभी हल होगी जब राज्य सरकार का अपना बस का बेड़ा रहेगा ।


ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि सभी स्टेट ट्रांसपोर्ट घाटे में चला करती हैं ।देश के अंदर बहुत सी राज्य सरकारें ऐसी भी हैं जिनके स्टेट ट्रांसपोर्ट मुनाफे में चलते हैं ।उनमें से उत्तर प्रदेश जैसा राज्य भी शामिल है ।जरूरत तो है बस इच्छा शक्ति और मजबूत इरादों की ।

अनिल पाण्डेय, वरिष्ठ पत्रकार, रायगढ़