क्रांतिकारी संकेत के प्रधान संपादक, शिक्षाविद् रामचंद्र शर्मा ने ग्रीनचर्या को आत्मसात करने का लिया संकल्प और दिए बहुमूल्य सुझाव.. देखें वीडियो..!

रायगढ़ 29 जून। उच्चशिक्षा मंत्री उमेश पटेल द्वारा जनहित में चलाये जा रहे मुहिम दिनचर्या में ग्रीनचर्या को शहर के कई प्रबुद्धजनों ने आत्मसात किया है और इस अभियान की यात्रा अनवरत जारी है बुद्धिजीवी समुदाय संकल्प भी ले रहे है कि वह अपने आने वाले पीढ़ियों सहित दूसरों को भी दिनचर्या में ग्रीनचर्या को अपनाने के लिए प्रेरित करेंगे। अपने मुहिम के लिए अधिकाधिक प्रबुद्ध जनों को जोड़ने के अगले पड़ाव की ओर ग्रीनचर्या की टीम रायगढ़ जिले के प्रसिद्ध दैनिक अखबार क्रांतिकारी संकेत के संपादक रामचंद्र शर्मा के पास पहुंची और उन्हें क्रांतिकारी संकेत के स्थापना दिवस की बधाई देते हुए ग्रीनचर्या मुहिम की ओर से एक जीवंत स्मृति चिन्ह के रूप में इंडोर पौधा उपहार स्वरूप भेंट किया और ग्रीनचर्या मुहिम के विषय में अवगत कराते हुए निवेदन किया कि वे भी अपने जीवनशैली ग्रीनचर्या को आत्मसात करें और अपने स्कूल के विद्यार्थियों, सहकर्मियों व अपने चाहने वालों को भी इस मुहिम को आत्मसात करने हेतु प्रेरित करें।

सर्व विदित है कि श्री शर्मा एक शिक्षाविद् है जिन्होंने रायगढ़ में संस्कार स्कूल के स्थापना कर हजारों बच्चों को शिक्षा देने का अनमोल कदम उठाया है और वे एक क्रिकेटर भी रह चुके हैं और वर्तमान में जिला क्रिकेट संघ के सचिव भी हैं, साथ ही साथ कई सामाजिक संगठनों में सम्मानीय पदों पर आसीन हैं। प्रतिष्ठित अखबार दैनिक क्रांतिकारी संकेत के संपादक भी हैं और प्रदेश की राजनीति तथा समाज में एक विशेष स्थान रखने के कारण रामचंद्र शर्मा का अपना एक अलग ही व्यक्तित्व है। शहर के चुनिंदा बुद्धिजीवियों में से एक श्री शर्मा को जब दिनचर्या में ग्रीनचर्या मुहिम के उद्देश्य को बता गया तो वे गदगद हो उठे और खुले मन से ग्रीनचर्या की प्रशंसा करते हुए आत्मसात करने का संकल्प लिया तथा ग्रीनचर्या टीम को अपना बहुमूल्य सुझाव देते हुए इस मुहिम से जुड़ने के लिए दूसरों को भी प्रेरित करने की बात कही। श्री शर्मा ने कहा :

“मंत्री उमेश पटेल द्वारा मुहिम ग्रीनचर्या को रायगढ़ के युवाओं ने शुरू किया है और इसका जो उद्देश्य है उसे जानकर मुझे आंतरिक खुशी हो रही है क्योंकि मुझे बचपन से पेड़ पौधों से लगाव रहा है। पर्यावरण को स्वस्थ रखने के लिए ग्रीनचर्या का मैं स्वागत करता हूं। घर के भीतर जो प्रदूषण रहता है उसे दूर करना अत्यंत आवश्यक है। श्री शर्मा ने अपने स्कूल के विद्यार्थियों के पेरेंट्स तथा अन्य स्कूल के पैरंट्स सहित अपने मित्रों अपने परिवारजनों एवं समाज के हर वर्ग से इस मुहिम को आत्मसात करने की अपील की है। बच्चों के भविष्य की चिंता करते हुए उन्होंने कहा कि अगर आप बच्चों को एक स्वस्थ रोगरहित जीवन भविष्य में देना चाहते हैं तो आपको ग्रीनचर्या अपनाते हुए पर्यावरण को शुद्ध करने का संकल्प लेना होगा तभी हम हमारे बच्चों को एक स्वस्थ रोगरहित जीवन भविष्य में दे सकते हैं वरना 15 से 20 साल बाद जब हमारे बच्चों को प्रदूषण से स्किन की बीमारी होगी उन्हें अस्थमा होगा तब हमारी अंतरात्मा को हम क्या जवाब देंगे इसलिए अभी से पर्यावरण को शुद्ध करने हेतु जनहित की मुहिम दिनचर्या में ग्रीनचर्या को आत्मसात करें और दूसरों को प्रेरित करें। यह जिम्मेदारी हर मां बाप की है कि वह अपने बच्चे की खातिर कम से कम एक पौधे को अपने घर भीतर रोपित कर उन्हें सींचे और घर भीतर के प्रदूषण को दूर करने का प्रयास करें।”


देखें वीडियो :


श्री शर्मा ने ग्रीनचर्या टीम को और भी कई महत्वपूर्ण सुझाव दिए और बताया कि ग्रीनचर्या मुहिम को किस प्रकार से हम धरातल पर सफल बना सकते हैं। श्री शर्मा ने ग्रीनचर्या टीम को आश्वस्त किया कि वे अपने संस्कार स्कूल के बच्चों को भी ग्रीनचर्या का महत्व बताएंगे और बच्चे इसे अपने दिनचर्या में अपनायें इस हेतू सकारात्मक पहल करेंगे।