करना चाहते हैं स्वयं का कारोबार तो जानें बिना गारंटी वाले सरकारी मुद्रा लोन का फायदा

नई दिल्ली 16 मई 2020। देशव्यापी कोरोनावायरस के संकट से निपटने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया ताकि देश में कोरोना के संकट से बचने के लिए सभी सेक्टर, मजदूर, कारोबारियों और सैलरीड लोगों को आर्थिक मदद दी जा सके। इसी पैकेज के ऐलान में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने छोटे कारोबारियों MSME के लिए 3 लाख करोड़ रुपये का ऑटोमैटिक कोलैट्रल फ्री लोन देने का ऐलान किया। कोलैट्रल फ्री लोन का मतलब ये हुआ कि अब कारोबारी बिना किसी गारंटी के अपने कारोबार के लिए लोन ले सकते हैं। इस लोन की अवधि चार साल की होगी। कारोबारी सरकार की गारंटी पर कारोबार के लिए लोन ले सकेंगे।

साथ ही मुद्रा योजना के तहत भी ऐलान किया है कि शिशु मुद्रा लोन अगर कोई लेना चाहता है तो उसे 2 फीसदी की ब्याज छूट मिलेगी।

आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत MSMEs के लिए राहत पैकेज का ऐलान तो वित्त मंत्री ने कर दिया लेकिन अभी भी कई ऐसे लोग हैं जो अपनी नौकरी जाने के बाद खुद का कोई छोटा कारोबार शुरू करना चाहते हैं लेकिन उन्हें सही माध्यम और सरकारी प्रधानमंत्री मुद्रा योजना PMMY) का फायदा कैसे उठाना है उसकी जानकारी नहीं है। तो अगर आपको भी सरकारी मुद्रा योजना PMMY) की जानकारी लेनी है तो पढ़िए हमारी ये खास रिपोर्ट।

क्या है प्रधानमंत्री मुद्रा योजना PMMY)?

  • साल 2015 में सरकार द्वारा शुरू की गई थी मुद्रा योजना
  • योजना का उद्धेश्य छोटे-मझोले कारोबारियों से लेकर रेहड़ी वालों तक के लिए अपने कारोबार को शुरू करने के लिए लोन की सुविधा
  • बिना गारंटी के मुद्रा योजना के तहत कारोबार शुरू करने के लिए ले सकते हैं लोन
  • 10 लाख रुपये तक का मिलता है सरकारी लोन
  • 3 श्रेणियों में लिया जा सकता है मुद्रा लोन:

शिशु लोन-50,000 रुपये तक का लोन मिलता है

किशोर लोन- 50,000 रुपये से 5 लाख रुपये तक का लोन

तरुण लोन-5 से 10 लाख रुपये का लोन लिया जा सकता है

  • बैंक अपने हिसाब और नियमों के तहत ब्याज तय करता है। हर बैंक का अलग ब्याज तय होता है।
  • आमतौर पर मुद्रा लोन पर 10 से 12 फीसदी का तक का ब्याज लगता है
  • ब्याज दर कारोबार के जोखिम और प्रकृति पर भी निर्भर करता है

कैसे ले सकते हैं मुद्रा लोन PMMY)?

  • कारोबार तय करने के बाद सरकारी या बैंक शाखा में जाकर लोन आवेदन जमा करना होगा
  • खुद कारोबार करना चाहते हैं तो दस्तावेज में मकान के कागज, पैन नंबर व अन्य जरुरत दस्तावेज जमा करने होंगे
  • लोन लेने के लिए मुद्रा वेबसाइट में जाकर सभी बैंकों की जानकारी ले सकते हैं जो मुद्रा लोन दे रहे है
  • लोन वाणिज्यिक बैकों, आरआरबी, स्मॉल फाइनेंस बैंकों, एमएफआई और एनबीएफसी द्वारा दिये जाते हैं। आप खुद इन संस्थानों में जाकर लोन के बारे में बात भी कर सकते हैं। साथ ही सरकारी योजनाओं की जानकारी देने वाले स्टार्टअप्स के वेबसाइट्स पर जाकर ऑनलाइन एप्लाई भी कर सकते हैं
  • बैंक के चयन के बाद फॉर्म डाउनलोड कर आवेदन भरना होता है। ध्यान रहे कि शिशु लोन के लिए अलग फॉर्म और तरुण और किशोर श्रेणियों के लिए एक ही फॉर्म को भरना होता है
  • फॉर्म में कारोबार से जुड़ी सभी जानकारी देनी होती है। कहां कारोबार करना चाहते हैं कौन सा कारोबार करना चाहते हैं ये सब भरना होता है
  • बैंक मैनेजर लोन देने से पहले आपसे ये सारी जानकारी खुद भी लेते हैं और लोन की मंजूरी तय करते हैं
  • आप सेल्फ प्रोपराइटर, पार्टनरशिप, माइक्रो उद्योग, सर्विस सेक्टर से जुड़ी कंपनियां, मरम्मत की दुकान, माइक्रो मैन्युफैक्चरिंग कारोबार, खाने से जुड़ा कारोबार, फल सब्जियों का कारोबार, ट्रक का काम जैसे कारोबार के लिए मुद्रा लोन ले सकते हैं
  • सरकार ने कुछ कारोबार के लिए खर्च और बचत का अनुमान लगाकर एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट भी तैयार किया है ताकि लोन लेने से पहले लोगों को कारोबार से होने वाले नफा नुकसान का एक अनुमान लग सके।

प्रधाममंत्री मुद्रा योजना लेने के क्या है फायदे ?

  • बिना किसी गारंटी के मिलता है लोन
  • बैंक द्वारा किसी तरह का प्रोसेसिंग फी नहीं लगती
  • लोन की रकम का भुगतान करने की अवधि को पांच साल तक आगे बढ़ाया जा सकता है
  • सरकार ने शिशु मुद्रा लोन पर 2 फीसदी की छूट दी है यानी कि अब सरकार वो 2 फीसद रकम देगी
  • सरकार ने 12 महीने के लिए शिशु मुद्रा लोन पर 2 फीसद की छूट दी है
  • शिशु लोन 50,000 रुपये तक का होता है और इससे काफी छोटे कारोबारियों को फायदा मिलेगा
  • सरकार के हिसाब से 3 करोड़ लोगों को 2 फीसद छूट का फायदा मिलेगा और लोन लेने वालों के 1500 करोड़ रुपये तक की बचत भी होगी
  • कोई भी व्यक्ति जो अपना खुद का कारोबार शुरु करना चाहता है मुद्रा योजना के तहत लोन ले सकता है
  • अगर कोई अपने मौजूदा कारोबार को और आगे बढ़ाना चाहता है, तो वो भी मुद्रा लोन की इस योजना के जरिए लोन से सकता है
  • लोन लेने वालों को एक मुद्रा कार्ड मिलता है, जिसके जरिए कारोबारी जरूरत पड़ने पर अपने आने वाले खर्च के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं
  • किसी भी तरह के लोन या कारोबार को शुरू करने से पहले वित्तीय सलाहकार से सारी जानकारी जरूर लें और अपने फायदा-नुकसान को देखते हुए ही किसी कारोबार को शुरू करें।