कंटेनमेंट जोन में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, सरकार ने जारी की लॉकडाउन 5.0 की गाइडलाइंस

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के पांचवें चरण में राज्यों के बीच लोगों और सामानों के अंतर-राज्य आवागमन के लिए कोई अलग अनुमति, अनुमोदन या ई-परमिट की आवश्यकता नहीं होगी। अगर कोई राज्य या केंद्र शासित प्रदेश दूसरे प्रदेशों में आने जाने से पर किसी प्रकार की पाबंदी लगाती है तो उसे इसके लिए सार्वजनिक सूचना देनी होगी।

केंद्र ने एक बयान में कहा, व्यक्तियों और वस्तुओं के अंतर-राज्य और अंतर-राज्य आंदोलन पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा। इस तरह के मूवमेंट के लिए कोई अलग अनुमति / अनुमोदन / ई-परमिट की आवश्यकता नहीं होगी,
बयान में आगे कहा गया है, हालांकि, अगर कोई राज्य / केंद्र शासित प्रदेश, सार्वजनिक स्वास्थ्य के कारणों और स्थिति के आकलन के आधार पर, व्यक्तियों के आने जाने को लेकर कोई दिशा निर्देश प्रस्तावित करता है, या प्रतिबंध लगाता है तो उसे इन पाबंदियं के संबंध में पहले विस्तृत विज्ञापन देना होगा इसके बाद इससे संबंधित प्रक्रिया को आगे बढ़ाना होगा। केंद्र ने आज कोरोनो वायरस लॉकडाउन को 30 जून तक बढ़ा दिया, लेकिन कहा कि मॉल्स और रेस्तरां 8 जून से फिर से खुल सकते हैं, सिवाय कंटेनमेंट जोन और सील किए उन इलाकों में जहां ज्यादा संख्या में कोरोनावायरस के केस सामने आए हैं। नाइट कफ्र्यू अब रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा। इस दौरान सिवाय जरूरी गतिविधियों या सेवाओं के लोगों को घरों से निकलने की इजाजत नहीं होगी।

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन को बढ़ाकर 30 जून, 2020 तक लागू कर दिया है। इस दिशा में केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से एक नई गाइडलाइन जारी की गई है। दिशानिर्देशों के मुताबिक देशभर के कंटेनमेंट जोन में पूरे महीने सख्ती रहेगी और सबकुछ बंद रहेगा, 30 जून तक कंटेनमेंट जोन में सिर्फ आवश्यक गतिविधियों की अनुमति दी जाएगी। हालांकि सरकार ने कंटेनमेंट जोन वाले इलाकों को छोड़ सभी क्षेत्रों में बड़ी छूट दी है।

– कंटेनमेंट जोन के अंदर सब कुछ बंद रहेगा
बता दें कि गृह मंत्रालय ने अपनी गाइडलाइन में अनलॉक शब्द का इस्तेमाल किया है जिसका मतबल है कि जून में लॉकडाउन खोलने की प्रकिया शुरू की जा सकती है। हालांकि कंटेनमेंट जोन में रहने वाले लोगों को अभी कुछ दिन और छूट का इंतजार करना पड़ सकता है। अपनी गाइडलाइन में सरकार ने कहा, कंटेनमेंट जोन के अंदर सब कुछ बंद रहेगा, यहां सीनेमा घर, स्कूल, कॉलेज और सार्वजनिक स्थान बंद रहेंगे। हालांकि कंटेनमेंट जोन के बाहर चरणबद्ध तरीके से सब कुछ खोला जाएगा।

– कंटेनमेंट जोन के लिए जारी गाइडलाइंस
केंद्र सरकार के दिशानिर्देशों के अनुसार जिला अधिकारियों द्वारा कंटेनमेंट जोन का सीमांकन किया जाएगा। कंटेनमेंट जोन में, केवल आवश्यक गतिविधियों की अनुमति दी जाएगी। इसका सख्ती से पालन हो इसलिए पुलिस और अन्य सुरक्षाबलों द्वारा कड़ी निगरानी रखी जाएगी। इस जोन में केवल चिकित्सा आपात स्थिति को छोड़कर या आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति के लिए अनुमति होगी। किसी अन्य क्षेत्र से इस जोन में एंट्री नहीं मिलेगी।

– केन्द्र ने दी राज्यों को और प्रतिबंध लगाने की छूट
कंटेनमेंट जोन में आवश्यकता के अनुसार गहन संपर्क ट्रेसिंग हाउस-टू-हाउस सर्विलांस और अन्य क्लिनिकल हस्तक्षेप होंगे। इसके अलावा राज्य और केंद्र शासित प्रदेश कंटेनर जोन के बाहर बफर जोन की पहचान भी कर सकते हैं, जहां नए मामले आने की अधिक संभावना है। बफर जोन के भीतर जिला अधिकारी आवश्यकता के रूप में प्रतिबंध लगा सकते हैं। कंटेनर जोन के बाहर कुछ गतिविधियों को प्रतिबंधित कर सकते हैं या आवश्यक समझे जाने पर ऐसे प्रतिबंध लगा सकते हैं।

– कंटेनमेंट के बाहर 8 जून से क्या खुलेगा
सार्वजनिक स्थानों और पूजा के सार्वजनिक स्थान, होटल, रेस्तरां और अन्य आतिथ्य सेवाएं और शॉपिंग मॉल को 8 जून, 2020 से खोलने की अनुमति दी जाएगी। इस संबंध में दिशानिर्देश केन्द्र सरकार अलग से जारी करेगी। वहीं स्कूल, कॉलेज, शैक्षिक संस्थान जैसे प्रशिक्षण और कोचिंग सेंटर आदि, राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ विचार-विमर्श के बाद खोले जाएंगे।

– अब भी जारी रहेगा नाइट कफ्र्यू
केंद्रीय गृहमंत्रालय ने अपनी गाइडलाइन में नाइट कफ्र्यू जारी रखने का निर्देश दिया है। यह देशभर में लागू होगा। जो जरूरी चीजें हैं, उनके लिए कोई कफ्र्यू नहीं होगा। रात को 9 बजे से सुबह 5 बजे तक अब नाइट कफ्र्यू रहेगा। बता दें कि लॉकडाउन के चौथे चरण में सरकार ने रात के 7 बजे से सुबह के 7 बजे तक नाइट कफ्र्यू लगाया था। स्कूल-कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान खोले जाने पर फैसला सरकार बाद में लेगी।