एम्स ने बताया लॉक डाऊन हटाना कब होगा फायदेमंद..पढ़िए एम्स डॉक्टरों की स्टडी..!

  • चीन के वुहान में दो महीने बाद ढील दी गई, फिर पूरे शहर की हुई टेस्टिंग
  • लॉकडाउन में ढील दिए जाने से कोरोना के केस तेजी से बढ़ सकते हैंः स्टडी

क्या भारत लॉकडाउन खत्म करने के लिए तैयार है? या Covid-19 केसों के शिखर तक पहुंचने के बाद कुछ हफ्तों तक इंतजार करना चाहिए? क्या लॉकडाउन को बढ़ाने से दूसरी लहर में देरी होगी और भारत को अपने हेल्थकेयर सिस्टम को तैयार करने के लिए और अधिक वक्त मिलेगा? क्या लॉकडाउन खत्म होने के बाद टेस्टिंग बढ़ाने से संक्रमण घटेंगे?

ऐसे और अन्य कई सवालों को iCART ने अपनी स्टडी में छुआ है. यह AIIMS के नेतृत्व में देश के शीर्ष संस्थानों के डॉक्टरों और शोधकर्ताओं की एक सामूहिक कोशिश है। ये उस वक्त पर है जब भारत खुद को लॉकडाउन से ढील के लिए तैयार कर रहा है।

एम्स के डॉक्टरों- गिरिधर गोपाल परमेश्वरन, मोहक गुप्ता, सप्तर्षि सोहम मोहंता और उनकी टीम की ओर से की गई स्टडी में सुझाव दिया गया है कि भारत को अपना शिखर निकलने के बाद कुछ हफ्तों तक इंतज़ार करना चाहिए, जिससे कि लॉकडाउन के असल लाभों का फायदा उठाया जा सके।

स्टडी में कहा गया है, “लॉकडाउन को पूरी तरह हटाए जाने पर, तारीख चाहे कोई भी हो, हमने पाया कि परिवर्तनीय विलंब के बाद सक्रिय केसों की संख्या तेज़ी से बढ़ेगी. हमने ऑब्जर्व किया कि शिखर निकल जाने के बाद लॉकडाउन में ढील दिए जाने में देर करने से वो समय अंतराल बढ़ जाता है जो ढील की तारीख और सक्रिय केसों की नई बढ़ोतरी की तारीख के बीच होता है।”