झूठी निकली लूट की कहानी.. मौसेरे भाई के खाते में जमा कराने की बजाय युवक ने खुद रख ली रकम और बन गया अपराधी…!


कोरबा! 3 अक्टूबर.शनिवार को सुबह के वक्त कोरबा शहर और पुलिस महकमे में तब सनसनी फैलाने वाली लूट की वारदात को पुलिस ने 7 घंटे के भीतर सुलझा लिया है। एसईसीएल सुभाष ब्लाक निवासी एवं मोबाइल दुकान संचालक अंकित केशरवानी के साथ 95 हजार लूट की यह घटना सुबह करीब 10.30 बजे हुई थी, जिसे एक बाइक सवार दो लड़कों ने नुकीला हथियार टिकाकर अंजाम दिया था। धारा 341, 392, 34 भादवि का जुर्म दर्ज कर मामले को सुलझाने की कोशिश शुरू हुई।अंतत: कड़ियों को पिरोते हुए ज्ञात हुआ कि व्यवसायी ने खुद ही लूट की झूठी कहानी रची थी। उसने एसबीएस कालोनी निवासी सुषमा त्रिपाठी से 95 हजार रुपए लिया और मन में लालच आ जाने के कारण यह रकम अपने मौसेरे भाई के खाते में जमा कराने की बजाय लूट की कहानी बना ली। उसने नकदी रकम और अपने जेवर व स्कूटी की चाबी घर में जाकर छिपा दिया जिसे पुलिस ने बरामद कर लिया है। कोतवाली टीआई दुर्गेश शर्मा ने बताया कि मिशन सिक्योर सिटी के तहत शहर में लगाए गए सीसीटीवी कैमरे की इस खुलासे में अहम भूमिका रही है। पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा, एएसपी कीर्तन राठौर, सीएसपी राहुल देव शर्मा के मार्गदर्शन व निर्देशन में कोतवाली टीआई दुर्गेश शर्मा, मानिकपुर चौकी प्रभारी एसआई अशोक पांडेय व मातहतों की तत्पर कार्रवाई का अहम योगदान रहा।

घटनास्थल