कोरोना वैक्सीन: रूस में 3000 से अधिक लोगों को दिया गया…जानिए भारत मे कब तक आएगी वैक्सीन..


रूस सरकार ने कोरोना वायरस के खिलाफ ‘स्पुतनिक वी’ टीके को लॉन्च करने के एक महीने के भीतर इसकी खुराक 3,000 से अधिक मॉस्को निवासियों को दे दी है। एक रिपोर्ट के अनुसार मेयर ने कहा कोरोना वायरस का टीका 3,000 से अधिक वॉलंटियर्स को पहले ही टीका लगाया जा चुका है और उनमें से किसी को भी कोई समस्या नहीं है। लोग अच्छा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं खुद इस टीकाकरण प्रक्रिया से गुजरा हूं और आप देख सकते हैं, मुझे कुछ नहीं हुआ है।

हालांकि रूस की राजधानी में बढ़ते मामलों के बीच बुजुर्गों को घर पर रहने का आदेश दिया गया है और लोगों को घर से ही काम करने के लिए कहा गया है। पिछले हफ्ते सरकार ने कहा था कि मास्को में स्पुतनिक वैक्सीन लिए 60,000 से अधिक लोगों ने हस्ताक्षर किए हैं।

कहा गए है कि 700 से अधिक लोगों को कोरोना वायरस वैक्सीन के इंजेक्शन लगाए गए हैं और सभी अच्छे लग रहे हैं। स्पुतनिक वी वैक्सीन रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत गामालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा विकसित किया गया है।

11 अगस्त को रूस रुस कोरोना वायरस वैक्सीन को लाइसेंस देने वाला पहला देश बन गया था लेकिन पश्चिमी विशेषज्ञों ने इसके उपयोग के खिलाफ चेतावनी दी है। उनका कहना है कि जबतक इस वैक्सीन के सारे फेज के ट्रायल्स पूरे नहीं किये जाते यह खतरनाक है। द लैंसेट के अनुसार इस साल जून-जुलाई में आयोजित किए गए ट्रायल्स में 76 प्रतिभागियों को शामिल किया गया था और इसने पूरी प्रतिक्रिया दिखाई। हालांकि अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों के एक समूह ने लैंसेट चिकित्सा पत्रिका से परिणामों पर सवाल उठाया है।