भाजपाइयों ने धान खरीदी को लेकर दिया धरना प्रदर्शन…


  • महामहिम राज्यपाल जी के नाम दिए ज्ञापन ईमानदार और सुचारू व्यवस्था की मांग

खरसिया। छत्तीसगढ़ सरकार और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ अपना धरना प्रदर्शन कुछ दिन पहले ही प्रदेश में किया था जिसे देख अब भाजपा नेताओं ने बुधवार को धान खरीदी में इमानदारी और सुचारू व्यवस्था हेतु शासन को निर्देशित करने बाबत महामहिम राज्यपाल जी के नाम अनुविभागीय अधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया।

जिसमे मुख्य रूप के भाजपा कार्यकर्ता के सदस्यों सहित छत्तीसगढ़ प्रदेश कार्यसमिति सदस्य गिरधर गुप्ता, गोपाल शर्मा, जिला भाजपा मंत्री महेश साहू, नगर मंडल अध्यक्ष सतीश अग्रवाल, महका मंडल अध्यक्ष राजेंद्र राठौर, जोबीमंडल अध्यक्ष कन्हैया राठिया, चपले मंडल अध्यक्ष पुरुषोत्तम पटेल, महामंत्री अर्जुन डनसेना, जयप्रकाश डनसेना, योगेंद्र सिंह राजपूत, छेदू राठिया, अमरनाथ, खेम साहू, गुलाब गवेल, नवल कनेर, रविंद्र गवेल, मोहन गवेल, नूतन पटेल धनुर्जय चौधरी, शशिकांत राठौर, कमल गवेल , रामनारायण पटेल, मोहन निषाद, विद्या राठिया, पिंटू जायसवाल, रतन अग्रवाल, उमाशंकर पटेल, जगत पटेल आदि भाजपा नेताओं ने सांकेतिक धरना प्रदर्शन व नारेबाजी करते हुए धान खरीदी में हो रही अनियमितताओं को लेकर महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।

भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा ज्ञापन में मांग कि गई है

नए कृषि कानून में यह तय किया गया है कि किसानों को उनकी उपज का मूल्य 3 दिनों के भीतर में जाए। वही अब तक छत्तीसगढ़ के किसानों को पिछली फसल का पूरा मूल्य भी अदा नहीं किया गया है। ऐसे में धान की कुल राशि एकमुश्त देने, प्रति एकड़ न्यूनतम 20 क्विंटल धान खरीदने, 1 नवंबर से धान खरीदी शुरू करने, 2 वर्ष के बकाया बोनस का भुगतान शीघ्र किए जाने, धान का रकबा कम करने की कवायद को बंद करने, भंडारण परिवहन के नाम पर किसानों की प्रताड़ना को बंद करने तथा पीड़ित किसानों को मुआवजा दिए जाने बाबत 7 प्रमुख मांगें किसानों के हित को लेकर भाजपा द्वारा की गई।