खरसिया/ ग्राम पंचायत पामगढ़ द्वारा सूचना के अधिकार अधिनियम का स्पष्ट उल्लंघन का मामला..! ग्राम पंचायत के मनमाने रवैये से जनता हलकान ! आरटीआई कार्यकर्ताओं को नहीं मिल रही पंचायतों की जानकारी..!


खरसिया,03 अक्टुबर। खरसिया विधानसभा के ग्राम पंचायत पामगढ़ निवासी सनत कुमार पटेल द्वारा 25 सितंबर 2020 को मनरेगा ग्राम पामगढ़ में गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत मनरेगा के 2019-20 के सभी कार्यों एवं मास्टर रोल तथा मजदूरी भुगतान की प्रमाणित छायाप्रति मांगी गई थी।

अब 30 दिनों तक ग्राम पंचायत सूचना अधिकारी द्वारा कोई भी जानकारी प्रदान न करने पर गड़बड़ी की आशंका और भी स्पष्ट हो जाती है। सूचना का अधिकार अधिनियम-2005 के तहत मांगी जाने वाली सूचना को लेकर ग्राम पंचायत मनमर्जी से ही नियम बनाकर आवेदक को जवाब नहीं दे रही है। ऐसे में आवेदक भी बार-बार जवाब मांग कर परेशान हो रहे हैं।

ग्राम पंचायत के मनमाने रवैया अपनाते हुए स्पष्ट रूप से सूचना के अधिकार अधिनियम का धज्जियां उड़ाया जा रहा है। 30 दिनों तक भी सूचना न मिलने पर सनत कुमार पटेल द्वारा आज प्रथम अपील लगाया गया।सूचना के अधिकार के तहत यदि आवेदक को 30 दिन में सूचना नहीं मिलती है तो वह प्रथम अपीलीय अधिकारी के पास जाकर अपील करेगा।

पूर्व में ही ग्राम पंचायत के मनरेगा सहायक सचिव द्वारा कई तरह की मनमानी रवैये को देखा जा रहा था ।