लक्षण युक्त मरीजों का अस्पताल में ही करें इलाज – डीएम भीम सिंह


3 नवम्बर से मेडिकल कालेज में भी शुरू हो जायेगा 24 बेड आईसीयू वार्ड

रायगढ़, 29 अक्टूबर। लक्षण युक्त मरीजों को अस्पताल में रखकर ही इलाज करना है। होम आईसोलेशन अलॉटमेन्ट में कोविड नॉम्र्स का अनिवार्यत: पालन किया जाए। होम आईसोलेटेड मरीजों को जो डॉक्टर्स अलाट किये जा रहे है वे मरीजों का रोजाना फॉलोअप सुनिश्चित करें। नये होम आईसोलेटेड मरीज को जो डॉक्टर अलाट होता है उसे तत्काल सूचना दें जिससे वह मरीज से तुरंत संपर्क कर सके। इस कार्य को देखने वाले सभी चिकित्सकों में आपसी समन्वय भी होना चाहिये। उक्त बातें कलेक्टर श्री भीम सिंह ने कोरोना के संबंध में आयोजित साप्ताहिक बैठक के दौरान कही। उन्होंने जिन क्षेत्रों से ज्यादा मरीज निकल रहे है वहां सघन जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्री सिंह ने सीएमएचओ से कहा कि टेस्टिंग सेंटर में आने वाले लोगों के लिये वेटिंग एरिया बनाया जाये तथा वहां पानी व शौचालय की व्यवस्था भी होनी चाहिये।

मरीज की दूसरे अस्पताल शिफ्टिंग के दौरान उसके स्टेबिलिटी का रखें पूरा ध्यान

बैठक में पिछले एक हफ्ते में कोविड से हुई मौतों की विस्तार से समीक्षा की गई। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि मरीज को एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल में स्टेबलाइज करके ही शिफ्ट होने की स्थिति में ही भेजा जाये। एक अस्पताल से दूसरे में शिफ्ट होने का निर्धारण इलाज कर रहे चिकित्सक द्वारा ही किया जायेगा। शिफ्टिंग के दौरान मरीज के किए गए इलाज की पूरी जानकारी भी साथ भेजने के निर्देश दिए। मरीजों की शिफ्टिंग के दौरान अस्पताल आपस में समन्वय बनाकर रखे जिससे मरीज को कोई असुविधा न हो।

झोलाछाप डॉक्टर्स व अवैध रूप से इलाज करने वालों पर करें कार्यवाही

जिला चिकित्सा अधिकारी अधिकारी को निर्देशित किया कि जिले में झोला छाप डाक्टर्स, गैर लायसेंस व अनाधिकृत तरीके से संचालित क्लीनिक के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाये। आयुर्वेदिक व होम्योपैथिक चिकित्सक जो अवैध तरीके से एलोपैथिक पद्धति से इलाज कर रहे है उनके विरूद्ध भी कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अनाधिकृत लोगों के द्वारा इलाज करने पर कानूनी कार्यवाही की जाये। ऐसे इलाज से अगर किसी की मृत्यु होती है तो इलाज करने वाले पर भारतीय दण्ड संहिता की धारा 304 (ए)के तहत मामला दर्ज करवाये।

मेडिकल कालेज में 2 नवम्बर तक तैयार हो जायेगा आईसीयू वार्ड

मेडिकल कालेज के 200 बिस्तर अस्पताल में तैयार किये जा रहे 24 बेड की आईसीयू वार्ड की उन्होंने जानकारी ली। निर्माण एजेंसी ने बताया कि 2 नवम्बर तक यह बनकर तैयार हो जायेगा। मालूम हो कि इस आईसीयू में 10 वेन्टीलेटर की सुविधा भी होगी। उन्होंने ऑक्सीजन पाईप लाइन के बचे काम को भी शीघ्र पूरा करने के लिये कहा।

होम आईसोलेशन सेल के जरिये मरीजों को अस्पताल शिफ्टिंग के लिये उपलब्ध करवायें वाहन

मरीजों को समय पर एम्बुलेंस मिले इसके लिये सभी विकास खण्डों के एम्बुलेंस व स्वास्थ्य विभाग की गाडिय़ों की जानकारी तथा उनके वाहन चालकों के नंबर होम आईसोलेशन सेल में उपलब्ध रखने के लिये कहा। जिससे यदि 108 की एम्बुलेंस समय पर नहीं पहुंच पा रही है तो 24&7 आपातकालीन नंबर पर कॉल करने पर मरीज के लिये पास के मुख्यालय से वाहन की व्यवस्था की जा सके। उन्होंने सारंगढ़ में एक और एम्बुलेंस उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। साथ ही प्रायवेट वाहनों की भी व्यवस्था करने के लिये निर्देशित किया जिससे आपातकालीन स्थिति में उन वाहनों के माध्यम से मरीजों को अस्पताल शिफ्ट किया जा सके। इस दौरान सीईओ जिला पंचायत सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एस.एन.केशरी, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी – कर्मचारी, मेडिकल कालेज तथा निजी अस्पताल संचालक उपस्थित रहे।