रायगढ़/ लालटंकी क्षेत्र में कोरोना पेशेंट निकल रहे बाहर खाना लेने, होटल भी जाते हैं, मरीजों के बाहर निकलने और घूमने से मोहल्लेवासी खौफजदा ! लाल टँकी निवासी दो मरीज प्रशासनिक व कोविड नियमों की उड़ा रहें हैं धज्जियां..!

रायगढ़,14 सितंबर। कोरोना मरीजों की सहूलियत को देखते हुए जिला प्रशासन ने पॉजिटिव पेशेंट को होम आइसोलेशन में रहकर इलाज कराने की सुविधा प्रदान की है मगर यहां लगातार होम आइसोलेट मरीजों की लापरवाही सामने आ रही है।

शहर के लाल टंकी रोड में कोरोना वायरस से संक्रमित प्रतिष्ठित परिवार के 54 वर्षीय शख्स और उसके 20 वर्षीय नौकर को होम आइसोलेशन में रखा गया है। मगर रोजाना ये दोनों घरों से बाहर निकल रहे हैं। गंभीर बात यह है कि पॉजिटिव नौकर अपने मालिक के लिए रोज चाय नाश्ता और खाना लेने के लिए भी निकलता है। इससे मोहल्लेवासी दहशत में आ गए हैं। कोरोना मरीजों के इस लापरवाही के कारण आसपास के घरों में संक्रमण के फैलने का भय सता रहा है। क्षेत्रवासियों ने प्रशासन से इस मामले को संज्ञान में लेने की मांग की है। रायगढ़ शहर कोरोना क्या हॉटस्पॉट में तब्दील हो गया है शहर के गली – गली में संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं और रोज रोज दर्जनों की तादाद में नए कोरोना मरीज मिल रहे हैं।

ऐसे समय में जब लोगों को सबसे अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है तो कुछ लोग पॉजिटिव आने के बाद और भी लापरवाही बरत रहे हैं। शहर व जिले में संक्रमण के मामले बढ़ने के बाद जिला प्रशासन ने कोरोना मरीजों को राहत देने के लिए होमआइसोलेशन में इलाज कराने हेतु सुविधा प्रदान की है मगर इसके लिए दिशा निर्देश और नियम भी तय किए गए हैं। कोरोना पॉजिटिव होने के बाद होमआइसोलेशन में इलाज कराने वाले मरीजों को घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है क्योंकि इससे आसपास के क्षेत्र में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ सकता है। होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे सभी मरीजों को इसकी जानकारी दे दी गई है और उन्हें नियमों को कड़ाई से पालन करने के लिए कहा गया है बावजूद इसके आए दिन कोरोना नियमों को लेकर लापरवाही की बात सामने आ रही है।

‘ताजा मामला शहर के मेन रोड से लगे लालटँकी क्षेत्र के यहां अनमोल साड़ी सेंटर के बगल वाली गली में 6 अगस्त को एक प्रतिष्ठित परिवार के 54 वर्षीय पुरुष और वहां काम करने वाले 20 वर्षीय नौकर का रिपोर्ट पॉजिटिव निकला था जिसके बाद दोनों वहीं होम आइसोलेशन में अपना इलाज करा रहे हैं मगर छेत्र वासियों के लिए डर के बात यह है कि दोनों ही मरीज नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं और रोजाना बाहर निकल रहे हैं।

आसपास के लोगों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि 20 साल का मरीज रोजाना अपने मालिक के लिए चाय -नाश्ता , खाना और जरूरत के अन्य सामान लेने के लिए होम आइसोलेट होने के बावजूद भी घर से निकलता है और बस स्टैंड होटल जाता है। इसके अलावा 54 वर्षीय मरीज का जब मन लगता है तब वो भी अपने घर से बाहर निकल कर घूमते रहता है। लोगों ने बताया रोड काफी भीड़भाड़ वाला है। यहां कोरोना पॉजिटिव के घर के बगल में एक साड़ी सेंटर है तो दूसरी तरफ चंद कदमों में आटा चक्की है। जहां रोज भीड़ लगी रहती है। ऐसे में रोजाना दोनों पॉजिटिव मरीजों के घर से बाहर निकलने से आसपास के क्षेत्र में संक्रमण फैलने का खतरा मंडरा रहा है क्षेत्रवासी ने इस मामले को संज्ञान में लेने की बात कही है।

चाय पीने आया था कोरोना पॉजिटिव चाय वाले ने स्थानीय जनप्रतिनिधि को दी फोन पर सूचना लेकिन हुआ कुछ नहीं उल्टा उन्होंने यहां तक कह दिया क्यों है यह व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव है या नहीं उसकी जानकारी नहीं है।

खुलेआम पॉजिटिव मरीज लालटंकी स्थित एक चाय दुकान में चाय पीने के लिए आ रहा है दहशत के मारे चाय वाले ने एक स्थानीय जनप्रतिनिधी को फोन पर सूचना देते हुए बताया कि उक्त मरीज चाय पीने मेरे दुकान भी आ रहा है मेरे मना करने के बावजूद भी वह नहीं मान रहा है आप कुछ कीजिए तो उक्त जनप्रतिनिधि ने कुछ नहीं किया अपितु टालमटोल करते हुए व्यक्ति को कोरोज पीजिटिव है या नहीं ये कहते हुए मामले से पल्ला झाड़ लिया।

हमेशा की तरह स्वास्थ्य विभाग का नहीं उठता फोन

इसके पश्चात चाय वाले ने वही स्थित कांग्रेस के मीडिया प्रभारी तारा श्रीवास को सूचना दी की लालटंकी में ये दो मरीज खुलेआम मेरे चाय दुकान में चाय पीने आ रहे हैं और कोरोना पॉजिटिव है। मामले की गंभीरता को समझते हुए तारा श्रीवास तत्काल सीएमएचओ तथा डॉ योगेश पटेल को फोन किया लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया तत्पश्चात उन्होंने स्थानीय एक बड़े नेता को फोन पर सूचना दी तो उन्होंने उच्च अधिकारियों से बात करके कोरोना मरीज के घर जाकर दबिश दी तो मरीज ने अपने आपको घर के अंदर बंद कर लिया और कहने लगा कि मैं आज के बाद बाहर नहीं निकलूंगा। समझाइश देने के बाद जनप्रतिनिधि वहां से वापस आ गए लेकिन उक्त दोनों कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति बात नहीं सुनते हैं और फिर से घर से बाहर निकलने लगते हैं। दोनों की हंसी हरकतों से लाल टंकी क्षेत्र के लोगों में दहशत का माहौल व्याप्त है।

परिवार के अन्य पांच सदस्य भी कोरोना पॉजिटिव

मोहल्ले वालों ने बताया कि इस परिवार के पांच अन्य सदस्य भी कुछ दिनों पूर्व कोरोनावायरस टिक पाए जा चुके हैं रायपुर में जांच के पौधों की आने पर उन सभी को वहां के अस्पताल में इलाज जारी है।

क्या कहते हैं तारा श्रीवास

स्थानीय लोगों ने मुझे इस विषय पर सूचना दी क्योंकि मामला बेहद गम्भीर था कि कोई पॉजिटव व्यक्ति सार्वजनिक जगहों पर घूम रहा है। मुझे ये भी सूचना मिली कि वहीं लालटँकी पर चाय दुकान का संचालन करने वाले कृष्णा शुक्ला के यहां उक्त पॉजिटिव व्यक्ति चाय लेने गया,मैंने तत्काल चाय दुकान वाले को उक्त विषय पर जानकारी देकर कहा कि वह दुबारा आये तो कठोर शब्दों में उसे मना कर देना अपने दुकान आने के लिए। सबंधित व्यक्ति के विषय में मैंने जानकारी देने के लिए CMHO केसरी जी को कॉल किया पर दो बार पूर्ण रूप से कॉल जाने पर भी उन्होंने कॉल रिसीव नही किया फिर मैंने डॉ. योगेश पटेल जी को भी कॉल किया तो उन्होंने भी कॉल रिसीव नही किया और न ही दोनों का कॉल मेरे पास आया। ये स्वास्थ्य विभाग की घोर लापरवाही को उजागर करती है फिर मैंने स्थानीय पार्षद सलीम नियारिया को काल करके उक्त विषय की जानकारी दी उन्होंने कहा मैं देखता हूँ। दूसरे दिन तक कोई कार्यवाही नही हुई तथा उक्त संक्रमित व्यक्ति पुनः चाय के दुकान पर पहुंचा तो चाय वाले ने स्पष्ट रूप से उसे मना कर दिया उक्त विषय को बताने वो मेरे पास भी आया। मैनें भी चाय वाले से कहा इसकी सूचना सलीम नियारिया जी को दे उसने कॉल किया और बताया तो पार्षद महोदय का जवाब था कि संक्रमित व्यक्ति बोल रहा कोरोना है तारा बोल रहा उसे कोरोना है पर डॉक्टर कहा बोल रहे उसे कोरोना है, वो चाय लेने आता है तो दे दिया कर घबराने वाली बात नहीं…….
मैंने उक्त विषय पर बात करना ही छोड़ दिया ।
सब भगवान भरोसे चल रहा है