रायगढ़/ कोविड अस्पतालों में डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ पर्याप्त संख्या में उपलब्ध रहे-कलेक्टर भीम सिंह..! त्रुटिपूर्ण गिरदावरी करने वाले कर्मचारियों के विरूद्ध होगी कार्यवाही..!


टी.एल.(समय-सीमा) की बैठक संपन्न

रायगढ़, 06 अक्टूबर । कलेक्टर भीम सिंह ने आज कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में टी.एल.(समय-सीमा)की बैठक लेकर सभी जिला स्तरीय शासकीय विभागों के साप्ताहिक कार्यों की समीक्षा की और जिले में किये गये गिरदावरी में किसानों की आपत्तियों का निराकरण करने तथा गिरदावरी में पायी गई त्रुटियों को सुधारने के निर्देश दिये। उन्होंने वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से जिले के सभी एसडीएम और तहसीलदारों को निर्देशित किया जहां त्रुटि पायी गई हो वहां की पुन: जांच करावें और वास्तविक फसल के रकबे की प्रविष्टि सुनिश्चित करें और जिन पटवारियों के कार्यों में त्रुटि पायी गई है उन्हें स्पष्टीकरण नोटिस देकर जवाब मांगे। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि निर्धारित तय सीमा में जांच कर त्रुटि नहीं सुधारा गया तो संबंधित पटवारी के विरूद्ध शासकीय नियमों के प्रावधान अनुसार कार्यवाही की जायेगी।
कलेक्टर सिंह ने कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे अभियान (5 अक्टूबर से 12 अक्टूबर 2020)तक की अवधि के लिये प्रत्येक विकासखण्ड में एक-एक वाहन उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। जिससे सर्वे का कार्य सुचारू रूप से पूरा किया जा सके। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को कोविड अस्पतालों में डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ पर्याप्त संख्या में उपलब्ध रहे, यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिये इसके लिये अल्प अवधि के लिये नर्सिंग स्टाफ और वार्ड ब्वाय की भर्ती करने तथा आईएमए के माध्यम से डॉक्टरों की व्यवस्था करने को कहा। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करने वाले निजी अस्पतालों में भी स्टाफ की कमी न हो यह भी सुनिश्चित किया जाये। कलेक्टर सिंह ने कहा कि शासकीय विभागों को डीएमएफ से राशि प्रदान की गई है उसका निर्धारित उद्देश्य वाले कार्यों में उपयोग कर व्यय राशि का विवरण प्रस्तुत करें। उन्होंने उप संचालक कृषि को प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना के अंतर्गत 18 वर्ष से 60 वर्ष उम्र के बीच के लघु एवं सीमांत किसानों को इस योजना का लाभ दिलाने को निर्देशित किया और प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना अंतर्गत किसानों को पंजीयन में पाई नई त्रुटियों का निराकरण करने को कहा। जिससे जिले के अधिक से अधिक किसानों को इन योजनाओं का लाभ मिल सके।

कलेक्टर सिंह ने को-ऑपरेटिव सोसायटियों द्वारा खाद वितरण में की गयी अनियमितताओं की जांच करने तथा ऐसे ट्रांसपोर्टर जिन्होंने एक ही कार्य के लिये दो-दो बार भुगतान प्राप्त किये तथा इन कार्यों में संलिप्त सभी व्यक्तियों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिये। उन्होंने मनरेगा के तहत किये जाने वाले कार्यों के लिये प्रत्येक गांवों में मिट्टी मूलक कार्यों को प्रारंभ करने और नये कार्यों के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये। वर्तमान में बरसात का मौसम समाप्त हो रहा है तालाबों में पानी भरा होने के कारण तालाब गहरीकरण के अलावा अन्य कार्य कराये जा सकते है।
कलेक्टर सिंह ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये मास्क की अनिवार्यता का सख्ती से पालन कराने और बिना मास्क के बाहर निकलने वाले व्यक्तियों से जुर्माना वसूलने के अभियान में तेजी लाने के निर्देश दिये। विशेष तौर पर सब्जी बाजारों, थोक सामग्री वाली मंडी, कामर्शियल बैंक तथा अन्य व्यावसायिक गतिविधियों वाले स्थानों पर विशेष निगरानी करने के निर्देश दिये। उन्होंने सभी एसडीएम, तहसीलदार एवं सीईओ को निर्देशित किया कि ग्रामीण अंचलों, बाजारों तथा सार्वजनिक स्थानों पर मास्क की चेकिंग करने और सोशल डिस्टेसिंग का पालन सुनिश्चित किया जाये।
कलेक्टर सिंह ने पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को जिले के सभी गांवों में पशुपालकों की संख्या तथा गोबर बिक्री करने वाले किसानों की संख्या का विवरण तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि शासन के निर्देशों के अनुसार सभी पशुपालकों का पंजीयन एप के माध्यम से किया जाना है भले ही वह पशुपालक गोबर नहीं बेचता हो, इसी प्रकार जिले के सभी चारागाहों में लगाई गई नेपियर तथा अन्य चारा फसल की जानकारी तथा चारागाह में की गई सुरक्षात्मक व्यवस्था के बारे में विवरण तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। कलेक्टर सिंह ने सभी एसडीएम को गांवों की खाली पड़त भूमि की जानकारी एकत्र करने और उसे अतिक्रमण मुक्त कर महिला स्व-समूहों को आबंटित किये जाने का प्रस्ताव तैयार करने को कहा जिससे इन खाली जमीनों पर बाड़ी विकसित किया जा सकेगा। उन्होंने धान खरीदी प्रारंभ होने के पूर्व सभी केन्द्रों पर चबुतरा निर्माण, शेड लगाकर कव्हर करने के निर्देश दिये। जिससे क्रय किये गये धान को सुरक्षित रखा जा सकेगा।

कलेक्टर सिंह में श्रम विभाग के अधिकारियों को शेष बचे प्रवासी श्रमिकों के लेबर कार्ड बनाने, वन अधिकार पट्टा तैयार करने के लिये निर्देशित किया। बैठक में एडीएम राजेन्द्र कटारा, सीईओ जिला पंचायत ऋचा प्रकाश चौधरी सहित सभी विभागीय अधिकारी उपस्थित थे और डीएफओ धरमजयगढ़ तथा सभी एसडीएम, तहसीलदार एवं जनपद सीईओ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े रहे।