बैंक का कैशियर फर्जी हस्ताक्षर कर आहरण पर्ची भरकर खुद निकाला करता था ग्राहकों का रुपया.. लाखों रुपये के गबन का बैंक मैनेजर ने लैलूंगा थाने में दर्ज कराया FIR.. कैशियर पर कानून ने कसा शिकंजा..!


रायगढ़। थाना लैलूंगा अन्तर्गत ग्रामीण बैंक राजपुर के शाखा प्रबंधक निशांत भारती द्वारा थाना लैलूंगा में ग्रामीण बैंक शाखा राजपुर के सहायक (कैशियर) नेमिष दीवान के विरूद्ध शाखा के ग्राहकों के खातों में कूट रचित आहरण पर्ची के माध्यम से रूपये आहरण कर राशि गबन करने के संबंध में रिपोर्ट दर्ज कराई है ।

शाखा प्रबंधक ने बताया कि छत्तीसगढ राज्य ग्रामीण बैंक की शाखा राजपुर में नेमिष दीवान पिता एस एस दीवान निवासी बगुडेगा थाना लैलूंगा सहायक (कैशियर) के पद पर दिनांक 19 अगस्त 2014 से 06 जनवरी 2020 तक पदस्थ था। उसने अपने पद का दुरूपयोग करते हुए शाखा के 05 ग्राहकों के खातों में कुटरचित आहरण पर्ची के माध्यम से राशि आहरण कर पैसे गबन कर गया। यही नहीं एक ग्राहक को 4,70,000 रूपये लोन दिया गया है जबकि बैंक के नियमानुसार बिना अनुमति के लोन लेना प्रतिबंधित है । बैंक के ऑडिट से जुमला 13,30,000 रूपये खाता धारकों का फर्जी हस्ताक्षर कर कैशियर द्वारा आहरण कर गबन करना पाया गया है ।

इस संबंध में नेमिष दीवान के विरूद्ध अप. क्र. 246/2020 धारा 420,467,468, 471 IPC दर्ज कर विवेचना में लिया गया है । पुलिस ने जांच शुरू कर दिया है।