चाइनीज पर प्रतिबंध, महंगे मिलेंगे देसी पटाखे, 9 से मिनी स्टेडियम में लगेगा बाजार..शुरू हुई मिनी स्टेडियम में पटाखा बाजार की तैयारी..पिछले साल से 22 दुकानें कम, 8 नंवबर को लॉटरी..!


रायगढ़ / दीवाली पर इस बार छोटे स्काई शॉट नहीं मिलेंगे। बच्चों की डिमांड को देखते हुए पटाखा उत्पादों ने चाइनीज पॉप-पॉप की जगह इंडिया में तैयार पॉप-पॉप और सिंगल शॉट माचिस मिलेंगी। दरअसल इस बार भारत सरकार ने चाइनीज पटाखों पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाया है। मध्यप्रदेश में चाइनीज पटाखे बेचने पर दो साल तक सजा का प्रावधान तो दूसरे राज्यों में अलग-अलग तरह इस पर सख्ती बरती जा रही है। व्यवसायी भी बीते सालों की तुलना में इस बार दिलचस्पी कम दिखा रहे हैं। पटाखा संघ के अध्यक्ष शब्बीर अहमद ने बताया कि इस बार दुकानें बीते सालों की तुलना में कम रहेंगी। पिछले साल 72 दुकानें लगी थी, इस बार इनकी संख्या 50 से भी कम हो सकती है।

कोविड संक्रमण के चलते 22 दुकानें मिनी स्टेडियम में कम लगेंगी। जिला प्रशासन के पास रायगढ़ के 98 व्यवसायियों ने लाइसेंस रिनुवल के लिए आवेदन किया है, लेकिन इनके लिए मिनी स्टेडियम में सिर्फ 50 दुकानें ही तैयार कराई जा रही है। दुकानों की साइज बड़ी रखी गई है। ताकि ग्राहक दुकानों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पटाखों की खरीदी कर सकें। मास्क की अनिवार्यता भी पटाखा कारोबारियों के लिए रखी जाएगी।

लाइसेंस रिनुवल कराना कारोबारियों की मजबूरी..!

लक्ष्मण दास जय सिंह बताते हैं कि पटाखे महंगे और कोविड संक्रमण के डर से अधिकांश व्यवसायी इस साल दुकान नहीं लगाएंगे। लाइसेंस रिनुवल कराना मजबूरी है। रिनुवल नहीं कराने पर लाइसेंस ही रद्द हो जाएंगे। इस बार 50 से भी कम दुकानों की उम्मीद है।

चाइनीज पटाखें सस्ते इसलिए लोगों की पहली पंसद..!

भारत में तैयार पटाखों की कीमत चाइनीज पटाखों की तुलना में बहुत ज्यादा है। कारोबारी बताते हैं कि चाइनीज पटाखों की पूरी रेंज मार्च से ही बाजार में आ जाती थी, लेकिन इस बार कोविड-19 के चलते यह पटाखा बाजार में नहीं पहुंचा। थोड़े समय बाद चाइनीज उत्पादों पर प्रतिबंध लग गया।

गाइडलाइन का व्यापारियों को करना होगा पालन..!

“दीवाली से एक सप्ताह पहले दुकानें शुरू करने की बात व्यवसायियों से हुई थी। कल निगम की तैयारी के बाद 8 को लॉटरी करेंगे। 9 नंवबर से दुकानें मिनी स्टेडियम में लगेंगी। शासन द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करना होगा।”

  • युगल किशोर उर्वशा, एसडीएम रायगढ़