कोरोना संक्रमित मरीजों के मृत्यु प्रकरणों की केश हिस्ट्री प्रस्तुत करने तथा कोरोना मरीजों के लिये महंगें इंजेक्शन रेडक्रास के माध्यम से उपलब्ध कराने हेतू कलेक्टर भीमसिंह ने दिए जरूरी निर्देश..!


रायगढ़, 28 सितम्बर। कलेक्टर भीम सिंह ने आज कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में आयोजित बैठक जिले में कोरोना महामारी से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिये ऑक्सीजन सुविधायुक्त बेड की उपलब्धता और ऑक्सीजन आपूर्ति तथा सिलेण्डरों की रिफिलिंग किये जाने के संबंध में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों तथा मेडिकल कालेज के डॉक्टरों को आवश्यक निर्देश दिये।

उन्होंने कोविड अस्पतालोंं में मरीजों के मृत्यु प्रकरणों की केश हिस्ट्री तैयार कर प्रस्तुत करने को कहा, जिससे मृत्यु के वास्तविक कारणों का पता चल सके। जैसे मरीजों को पूर्व से कोई गंभीर बीमारी, कोरोना के प्रारंभिक लक्षणों को मरीज द्वारा अनदेखी करने और देरी से जांच कराने, पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल पहुंचने में देरी अथवा मरीजों को अस्पताल पहुंचाने के लिये ट्रान्पोर्टेशन (वाहन की व्यवस्था) न होने या ऑक्सीजन सुविधा उपलब्ध न होने जैसे महत्वपूर्ण तथ्यों का पता लगाया जा सके और मृतक द्वारा की जाने वाली लापरवाही के बारे में उसके परिवार एवं आम नागरिकों को जानकारी हो सके कि कोरोना बीमारी में लापरवाही कितना घातक हो सकता है।

उन्होंने जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों के मृत्यु वाले प्रकरणों की ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों का विकासखण्डवार पृथक-पृथक जानकारी तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि डेथ रेट (मृत्यु दर)में कमी लाना बहुत आवश्यक है।

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि ऑक्सीजन की आवश्यकता वाले किसी भी मरीज को होम आईसोलेशन की अनुमति नहीं दी जाये और सभी कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेण्डरों की उपलब्धता, उपयोग एवं खाली सिलेण्डरों की रिफिलिंग हेतु ड्रिस्टिक ऑक्सीजन कमेटी का गठन करने के निर्देश दिये। मेडिकल कालेज के आईसीयू प्रभारी डॉ.लकड़ा ने बताया कि वर्तमान में 300 से अधिक भरे हुये ऑक्सीजन सिलेण्डर उपलब्ध है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि पूर्व में चयनित नर्सेस भर्ती की प्रतीक्षा सूची में से बचे 20 नर्सेस की नियुक्ति प्रदान कर दी गई है।

आवश्यकतानुसार अतिरिक्त नर्सिंग स्टाफ की नियुक्ति की प्रक्रिया भी प्रारंभ कर दी गई है। कलेक्टर श्री सिंह ने कोविड अस्पतालों में अल्प अवधि के लिये नर्सेस स्टाफ की पूर्ति के लिये राज्य शासन को प्रस्ताव भेजकर नियमानुसार स्वीकृति प्राप्त करने के निर्देश दिये। उन्होंने कोविड अस्पतालों के लिये डॉक्टरों की पूर्ति हेतु आयुर्वेद डॉक्टरों को आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान कर कोविड अस्पतालों में उनकी सेवायें लेने के निर्देश दिये।

कलेक्टर श्री सिंह ने रेल्वे स्टेशन पर होर्डिंग्स लगाकर कोरोना सेंपल कलेक्शन सेंटर की जानकारी और कोरोना महामारी हेतु बनाये गये आदर्श कंट्रोल रूम के सभी इमरजेंसी फोन नंबर तथा रेल यात्रियों के लिये आवश्यक दिशा-निर्देश प्रदर्शित करने तथा जिले के सभी कोविड अस्पतालों में कुल सामान्य बेड तथा ऑक्सीजन सुविधायुक्त बेड की जानकारी प्रतिदिन मीडिया बुलेटिन के माध्यम से प्रसारित करने के निर्देश दिये।

उन्होंने सेंपल जांच केन्द्रों के बाहर कुर्सियां लगवाकर जांच कराने आने वाले व्यक्तियों के बैठने की व्यवस्था करने को कहा। कलेक्टर श्री सिंह ने कोरोना संक्रमित ऑक्सीजन आवश्यकता वाले मरीज की स्थिति 3-4 दिनों में ठीक महसूस होने पर सामान्य कोविड अस्पताल में शिफ्ट करने को कहा ताकि अन्य मरीजों को ऑक्सीजन सुविधायुक्त बेड उपलब्ध हो सकेगा।

उन्होंने होम आईसोलेशन में रहने वाले मरीजों की सतत् निगरानी करने और घर के सदस्यों को बाहर न निकलने के निर्देश देने को कहा और होम आईसोलेशन मरीजों के घर के सभी सदस्यों को दवाईयां मिलती रहे इसकी मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिये।

कलेक्टर श्री सिंह ने ड्रग इंसपेक्टरों को दवाई दुकानों में बिक्री होने वाले मास्क, चिकित्सा उपकरण तथा दवाईयों की नियमित जांच करने और दुकानों में अमानक स्तर की मेडिकल सामग्री पाये जाने पर इन दुकानों के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। बैठक में सीईओ जिला पंचायत सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एस.एन.केशरी, आईसीयू प्रभारी डॉ.लकड़ा सहित स्वास्थ्य विभाग एवं मेडिकल कालेज के डॉक्टर्स उपस्थित थे।