एक रक्षा सूत्र मास्क का ,एक जुनून एक आंदोलन बना – अनिल पाण्डेय

रायगढ़ । पुलिस द्वारा शुरू किया गया ,एक रक्षासूत्र मास्क का कार्यक्रम मानो जैसे रायगढ़ जिले में एक जुनून एक आंदोलन बन गया है ।हर कोई यह चाह रहा है कि पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह की पहल पर शुरू हुआ यह कार्यक्रम एक विश्व रिकार्ड बनाकर रायगढ़ का गौरव पूरे विश्व में बढ़ाये और कोविड से लड़ने के लिए रायगढ़ के हौसले को जगजाहिर करे । इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए जिस तरह से लोगों की स्वतःस्फूर्त सहभागिता सामने आ रही है ,लोगों में उत्साह नजर आ रहा है उसने भी रायगढ़ पुलिस के इस भगीरथ संकल्प को पूरा करने के लिए उसके आत्मविश्वास और उम्मीद को भी निश्चित तौर पर बढ़ाया है ।


रायगढ़ जिले में शहरी और कस्बाई क्षेत्र को छोड़कर लगभग 1500 सौ गांव हैं ,कुछ गांव तो ऐसे भी हैं जो जिला मुख्यालय से लगभग डेढ़ सौ किलोमीटर दूर हैं तो कुछ गांव ऐसे भी हैं जो जंगलों से पहाड़ों से भी घिरे हुए हैं ।ऐसी स्थिति में सारी भौगोलिक ,एंव कठिन चुनोतियाँ के बावजूद रक्षबन्धन के दिन दस लाख लोगों तक मास्क पहुंचाने का रायगढ़ पुलिस द्वारा बीड़ा उठाना कोई सामान्य बात नहीं है बल्कि हिमालय से गङ्गा उतारने के सदृश्य है और यह स्पष्ट रूप से अब परिलक्षित होने लगा है कि रायगढ़ पुलिस ,जनसहभागिता के साथ अपने मनोरथ में जरूर सफल होगी और रायगढ़ का मस्तक गर्व से ऊंचा करेगी ।