कोरबा में फिर तालाब के किनारे मिला हाथी के बच्चे का शव..! मौत का कारण स्पष्ट नहीं..! 5 माह में 14 हाथियों की मौत..!


कोरबा, 26 अक्टूबर। छत्तीसगढ़ के कोरबा में सोमवार सुबह एक हाथी के बच्चे का शव तालाब के किनारे पड़ा हुआ मिला है। उसकी मौत का कारण स्पष्ट नहीं है। सूचना मिलने पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई है। मामला कटघोरा वन मंडल के लालपुर गांव का है। यहां 10 माह में हाथियों के दो बच्चों और एक मादा हाथी की मौत हो चुकी है।

जानकारी के मुताबिक, कटघोरा वन मंडल में केदई रेंज के लालपुर गांव में सोमवार सुबह तालाब किनारे हाथी के बच्चे का शव पड़े होने की सूचना मिली थी। बच्चे की सूंड़ में चोट के निशान भी हैं। आशंका जताई जा रही है कि चोट लगने के कारण उसकी मौत हुई होगी। हालांकि अभी स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी है। वन विभाग की टीम जांच कर रही है।

इससे पहले भी तालाब में डूबकर हुई है मौतें..!

कुछ माह पहले भी केंदई वन परिक्षेत्र के गांव कुल्हारिया में एक मादा हाथी की दलदल में फंसने से मौत हो गई थी। इसके बाद 17 अक्टूबर को पानी में डूबने से हाथी के बच्चे की मौत हुई। तब वन विभाग के अफसरों ने बताया था कि बच्चा अपने झुंड से अलग हो गया होगा। यह एक नेचुरल मौत है। इसमें किसी प्रकार की जांच का सवाल नहीं है।

जून से जारी है हाथियों की मौत का सिलसिला..!

छत्तीसगढ़ में महज पांच माह में 14 हाथियों की मौत हो चुकी है। इनमें से 3 सितंबर और 2 अक्टूबर माह में ही मारे गए हैं।

०26 अक्टूबर : कोरबा के कटघोरा में ही तालाब किनारे हाथी के बच्चे का शव मिला।

० 17 अक्टूबर : कोरबा के कटघोरा वन परिक्षेत्र में तालाब में डूबने से हाथी के बच्चे की मौत हुई।

० 28 सितंबर : गरियाबंद में बिजली विभाग की लापरवाही से तार की चपेट में आकर हाथी की मौत

० 26 सितंबर : महासमुंद के पिथौरा में शिकारियों ने करंट लगाकर हाथी को मारा

० 23 सितंबर : रायगढ़ में धरमजयगढ़ के मेंढरमार में करंट लगने से हाथी की मौत

० 16 अगस्त : सूरजपुर में जहरीला पदार्थ खाने से नर हाथी की मौत

० 24 जुलाई : जशपुर में करंट लगाकर नर हाथी को मारा गया

० 9 जुलाई : कोरबा में 8 साल के नर हाथी की इलाज के दौरान मौत

० 18 जून : रायगढ़ के धरमजयगढ़ में करंट से हाथी की मौत

० 16 जून : रायगढ़ के धरमजयगढ़ में करंट से हाथी की मौत

० 15 जून : धमतरी में माडमसिल्ली के जंगल में कीचड़ में फंसने से हाथी के बच्चे ने दम तोड़ा।

० 11 जून : बलरामपुर के अतौरी में मादा हाथी की मौत हुई थी

० 9 व 10 जून : सूरजपुर के प्रतापपुर में एक गर्भवती हथिनी सहित 2 मादा हाथियों की मौत हुई।