सांसद चुन्नीलाल साहू बताए कि केन्द्र सरकार किसानों को बोनस देने के पक्ष में है कि नहीं??? जफ़र उल्ला


रायपुर 11 अक्टूबर 2020:- महासमुंद लोकसभा आईटी सेल अध्यक्ष जफर उल्ला ने कहा कि आज किसानों को विकल्प कि नही किसानों की उपज की अच्छी कीमत अच्छे एमएसपी की जरूरत है जोकि बिल पर इसका कहीं भी उल्लेख नजर नहीं आता तो किस तरह किसान अन्नदाता इस बिल पर भरोसा करें!

सांसद चुन्नीलाल साहू लोकसभा सदन की बात करते हैं तो मैं उनसे पूछना चाहूंगा 15 साल की बीजेपी शासन में छत्तीसगढ़ के किसानों को इक्कीस सौ समर्थन मूल्य और 300 बोनस का वादा किया था वह क्यों किसानों को नहीं दिया। जुमलेबाजी-धोखेबाजी किसानों के साथ किया गया क्या इसका कोई जवाब है!

ज़फ़र उल्ला ने कहा कि आज 20 क्विंटल की याद अब क्यों आई 15 वर्षों से छत्तीसगढ़ में बीजेपी सरकार रही तब क्यों नहीं 20 क्विंटल के लिए आवाज उठाये छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने किसान हित में कई अहम फैसले लिए, कर्ज माफी और 2500 धान की कीमत दी। जब केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ सरकार से धान खरीदने को मना किया तब कहां थे सांसद चुन्नीलाल साहू ? तब क्यों नहीं वो किसानों के हक की आवाज बनकर केंद्र सरकार को किसानों को देने वाला 2500 के समर्थन में खड़े हुए। आज किसान विरोधी बिल लाकर किसानों को खत्म करने का काम किया जा रहा। किसानों को मजबूर किया जा रहा कि वो उद्योगपतियों के कठपुतली बन जाए। ज़फ़र उल्ला ने कहा कि सांसद चुन्नीलाल साहू जरूर बताये की किसानों के उपज पर किसी तरह की खामी न निकाले खरीदार ओर किसानों को मजबूर न करे ओने पोने दाम में बेचने के लिए।

आईटी सेल अध्यक्ष जफर उल्ला ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कर्ज काफी के बाद किसानों की तादाद बढ़ी है। नए किसानों ने अपना पंजीयन कराया है। ऐसे समय में केंद्र सरकार ने 60 लाख मैट्रिक टन धान खरीदी का फैसला ऊंट के मुंह में जीरे के बराबर है। जबकि राज्य में 1 करोड़ 40 लाख मैट्रिक टन से अधिक धान की पैदावार होने का अनुमान है।