लड़की के लाश ने अर्थी से उठकर दूध मांगकर पिया और फिर से अर्थी पर लेट गई.. सकते में लोग ! लाश की जांच करने आई डॉक्टर्स की टीम ने कहा की….. ईलाके में लोगों का उमड़ा भीड़.. पढ़े सनसनीखेज खबर..!


सूरजपुर। दाह संस्कार के लिए पूरी तैयारी करने के बाद, अचानक अर्थी पर लेटी मृत लड़की कथित रूप से जिंदा हो गई, आंख खोलते ही उसने घर वालों से दूध मांगकर पिया और फिर बेहोश हो गई। घरवालों के कहना है कि लड़की पूरे होशो-हवाश में है, लेकिन बोल नहीं पा रही है। लड़की को मेडिकल कॉलेज अम्बिकापुर के चिकित्सकों ने रात में मृत घोषित कर दिया था, जिसके बाद सुबह 9 बजे मुक्तांजली वाहन उसे लेकर उसके गांव पहुंची, लड़की को जैसे ही दाह संस्कार के लिए ले जाने की तैयारी पूरी कर ली गई, उसी दौरान यह अजीबोगरीब मामला सामने आया, जिसको सुनते ही आसपास क्षेत्र से लोग लड़की को देखने उसके घरों में उमड़ पड़े है। मामले को सुन प्रतापपुर बीएमओ डॉ राजेश श्रेष्ठ तत्काल उसके घर पहुंचे, उन्होनें बताया कि लड़की का पूरा स्वास्थ्य परीक्षण कर लिया गया है, वह मृत है। इधर दूसरी ओर परिजन के साथ साथ गांव के लोग बार-बार कह रहे है कि लड़की उनके सामने उठ बैठी थी और दूध मांगकर पी थी। फिलहाल घटना को लेकर क्षेत्र में कौतूहल का वातावरण बना हुआ है।

यह अजीबोगरीब मामला सूरजपुर जिले के प्रतापपुर मुख्यालय से महज 10 किमी दूर ग्राम सेमई आमाडांड़ की है। मिली जानकारी के अनुसार चंदौरा थाना अंतर्गत इस ग्राम के किशुन लोहार की 15 वर्षीय लड़की अनिता कुछ दिनों से बीमार थी। उसे बुखार के साथ उल्टियां हो रही थी। उसकी स्थिति बिगड़ती देख उसके परिजन पहले उसे प्रतापपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर आये थे, स्थिति देखकर यहां पर चिकित्सकों ने उसे अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज ले जाने की सलाह दी।

इस पर 28 सितंबर को उसके परिजन उसे अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज ले गए, जहाँपर उसकी स्थिति नाजुक होने पर उसे आईसीयू में भी रखा गया। मिली जानकारी के अनुसार यहां पर ईलाज के दौरान गुरुवार की सुबह 3 बजे चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृत घोषित किये जाने के उपरांत तमाम औपचारिकता के बाद सुबह 9 बजे किशुन लोहार अपनी बेटी का शव मुक्तांजली वाहन से लेकर अपने गांव पहुंचे। इस दौरान परिजन ने उसके दाह संस्कार की पूरी तैयारी कर ली थी। थोड़ी देर बाद ही मृत अनिता लोहार को जैसे परिजन शमशान घाट ले जाने के लिए तैयार हुए, उसी दौरान कथित रूप से लड़की अर्थी से उठ गई और बैठ गई। अचानक लड़की को इस तरह उठता देख एक बार तो सभी परिजन डर गए, लेकिन उसने जैसे ही उसने पीने के लिए दूध मांगा, पूरे घर में मातम का माहौल खुशी में बदल गया और परिजन तुरंत उसको दूध पिलाये, इसके तुरंत बाद लड़की फिर बेहोश हो गई, लेकिन प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार लड़की पूरे होशो-हवास में है और देख-सुन रही है, लेकिन कुछ बोल नहीं पा रही है। इस घटना कि जानकारी जैसे ही आसपास क्षेत्र में फैलनी शुरू हुई, लोगो का हुजूम घर के पास उमड़ पड़ा है। कई लोग इसे दैवीय तो कई मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों की लापरवाही का आरोप लगा रहे है।

इधर मामले को सुनकर प्रतापपुर बीएमओ डॉ राजेश श्रेष्ठ मौके पर पहुच गए है। ‘मुनादी’ से चर्चा में उन्होंने बताया की मैं अभी मृत लड़की के घर पर ही हूं। हमलोगों ने उसका पूरा परीक्षण कर लिया है, लड़की की मौत हो चुकी है। इसको लेकर उनके परिजन को बता भी दिया गया है। इससे पहले क्या हुआ है ? इसकी जानकारी मुझे नहीं है, फिलहाल परिजन को पूरी तरह से परीक्षण कर वर्तमान स्थिति की जानकारी दे दी गई है।

इधर मामले को सुन कर हर कोई हैरान है। मिली जानकारी के अनुसार स्वास्थ्य अमला परिजन व ग्रामीणों को लड़की को मृत घोषित कर घटनास्थल से रवाना हो गया है, लेकिन परिजन लड़की को मृत मानने को लेकर सहमत नहीं है और अब उसके झांड-फूंक की तैयारी शुरू कर दिए है। इस दौरान लोगों द्वारा इसको लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे है। फिलहाल मामले को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है।

Shource Munadi