मोहल्ला क्लास का स्वरूप बदल गया है स्मार्ट टीवी के प्रयोग से…


बिलासपुर 20 नवंबर 2020:- पढ़ई तुंहर दुआर योजना के माध्यम से बच्चों को सुरक्षित और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मोहला ब्लॉक में नई तकनीक का उपयोग व नवचार किये जा रहे हैं। गोटाटोला जोन मीडिया प्रभारी शेख अफ़ज़ल ने बताया कि मोहला ब्लॉक में बच्चों को डिजिटल और नए तकनीक से पढ़ाने का प्रयोग शिक्षकों द्वारा किया जा रहा है। इसी कड़ी में मोहला के अंतिम छोर में बसे शेरपार संकुल के मिडिल स्कूल माटकसा की शिक्षिका ज्योति उके द्वारा ऑग्मेंटेड रियलिटी तकनीक और स्मार्ट टीवी की मदद से बच्चों को पढ़ाया जा रहा है।

ज्ञात हो ऑग्मेंटेड रियलिटी एक नवीन शिक्षण तकनीक है। इस टेक्नोलॉजी की मदद से किसी भी विषय वस्तु को आभासी रूप से क्लास में ला कर बच्चो को दिखाया जा सकता है।

अभी तक जिन ट्रॉपिक्स को सिर्फ मौखिक बताया जाता था उन्हें अब 3- डी तकनीक की मदद से दिखाया जा सकता है। इसी तरह संकुल के प्राथमिक शाला मुचर में भी मोहल्ला क्लास को रोचक बनाने के लिए शिक्षक शेख अफ़ज़ल व उमा शंकर दिल्लीवार द्वारा ऑगमेंटेड रियलिटी और स्मार्ट टीवी की मदद से बच्चो को पढ़ाई से जोड़ा जा रहा है।

एबीईओ मोहला का कहना है कि ऑग्मेंटेड रियलिटी पद्धति से अध्यापन से बच्चों में भी काफी उत्साह है। इस तकनीक के उपयोग से बच्चे सभी चीज़ों को अपने सामने पाते हैं और उनके बारे में करीब से जान पाते है। निश्चित रूप से ऑग्मेंटेड रियलिटी तकनीक से बच्चों को किसी भी विषय वस्तु को जानना, समझना बहुत ही आसान हो गया है। प्रशिक्षण के बाद मोहला के बहुत से शिक्षक इस तकनीक का उपयोग अध्यापन में कर रहे हैं।

ज्ञात हो कि मोहला मानपुर विधायक इन्द्र शाह मंडावी, संजय जैन, स्कूल शिक्षा विभाग से सतीश ब्यौहरे, बीईओ रोहित कुमार अम्बादे, एबीईओ राजेन्द्र कुमार देवांगन, बीआरसीसी खोमलाल वर्मा भी मोहला विकासखंड में पढ़ाई को डिजिटल बनाने की दिशा में काफी प्रयास कर रहे है। निश्चित रूप से मोहला विकासखंड के शिक्षको द्वारा ऑग्मेंटेड रियलिटी तकनीक के उपयोग से डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा मिल रहा है।