माध्यमिक शिक्षा मंडल ने बदले परीक्षा के पैटर्न… छात्रों को अब प्रोजेक्ट जमा करना हुआ अनिवार्य… पढ़े पूरी खबर…


रायपुर 20 नवंबर 2020:- माध्यमिक शिक्षा मंडल ने 10वीं एवं 12वीं बोर्ड परीक्षा का पैर्टन में किया बदलाव किया गया है। छात्रों को अब प्रोजेक्ट दिया जा रहा है। छात्रों को दिए गए 6 में से 4 प्रोजेक्ट को जमा करना अनिवार्य किया गया है। जो छात्र चार प्रोजेक्ट जमा करेगा वह परीक्षा में बैठ पाएगा। छात्रों की मानक उपस्थिति अब प्रोजेक्ट को माना जाएगा।

प्रोजेक्ट हेतु निर्धारित समय अनुसार, असाईमेंट का विषय वेबसाइट में अपलोड कर दिया जा रहा है। जिसके बाद छात्रों को प्रोजेक्ट स्कूलों में जमा कराना होगा। पहला प्रोजेक्ट पूरा हो गया है। 94 प्रतिशत दोनों बोर्ड के बच्चों ने असाईमेंट जमा कर दिया है। दूसरी असाईमेंट प्रक्रियाअधीन है।

माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव वीके गोयल ने कहा कि एक असाइंमेंट 20-20 नंबर का तथा विषय वार सितंबर से फरवरी तक दिया जाएगा। इसके 30 नंबर बोर्ड परीक्षा के मुख्य परीक्षा में जोड़ा जाएगा। इस प्रक्रिया में कमजोर छात्रों पर विशेष ध्यान देने के लिए आदेश जारी किया है।

पहले असाईमेंट में 94 प्रतिशत छात्रों ने प्रोजेक्ट जमा किया है। दूसरे में अब तक 60 प्रतिशत प्रोजेक्ट जमा हो चुका है। इस साल शिक्षा मंडल के सिलेबस को 6 माह के लिए 6 भाग में बांटा गया है। सिलेबस सितंबर से फरवरी तक निर्धारित किया गया है। वहीं 30 प्रतिशत कोर्स कटौती के बाद 60 प्रतिशत कोर्स परीक्षा का आधार होगा.

माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव वीके गोयल ने बताया कि ऑनलाईन पढ़ाई का अवलोकन प्रोजेक्ट के माध्यम से किया जा रहा है. कोरोना कॉल में पिछले कोर्स को देखते हुए अलग-अलग विषयों में 30-40 प्रतिशत कटौती की गई है. 60 प्रतिशत सिलेबस को आधार बनाकर 6 माह के लिए 6 प्रोजेक्ट विद्यार्थियों को दिया जाएगा.