एडीएम का स्टेनो हुआ कोरोनाग्रस्त.. कार्यालय में दहशत.. कलेक्टोरेट परिसर हुआ खाली..!

शुभम तिवारी, राजनांदगांव, 30 जून। छत्तीसगढ़ में कोरोना ने फिर से रफ्तार पकड़ ली है। प्रदेश में कोरोना का हॉटस्पॉट बन चुका जिला राजनांदगांव में एक प्रशासनिक अधिकारी के स्टेनों को कोरोना ने अपना शिकार बनाता तो ऐहतियातन कलेक्टर टीके वर्मा ने एडीएम के पूरे स्टॉफ को क्वारेंटाईंन कर दिया है। वहीं कलेक्टोरेट के हर कमरे को सेनिटाईज कराते हुए कर्मचारियों को कुछ दिनो तक वर्क फ्राम होम के तहत काम करने का निर्देश दिया गया है।

बताया जाता है कि कलेक्टर टीके वर्मा अपनी निगरानी में पूरे भवन को कोरोनामुक्त कराने के लिए स्प्रे करा रहे हैं। कल एडीएम के स्टेनो के कोरोना के चपेटे में आने की खबर से प्रशासनिक अफसरों में खलबली मच गई। बताया जाता है कि स्टेनो में संक्रमण होने की मेडिकल रिपोर्ट में पुष्टि होने के बाद कलेक्टर एवं अन्य प्रशासनिक अफसरों ने अपना कमरा छोड़ दिया।

बताया जाता है कि स्टेनो ने कुछ दिन पहले शहर के एक कोरोनाग्रस्त चिकित्सक से अपना उपचार कराया था। उक्त चिकित्सक की वजह सेे स्टेनों भी कोरोना के जद में आ गया। स्टेनो को प्रशासन ने फौरन उपचार के लिए अस्पताल में दाखिल कराया है। वही एडीएम समेत अन्य कर्मचारी क्वारेंटाईंन हो गए। साथ ही स्टेनों के परिवार की भी जांच की जा रही है।

इस संबंध में कलेक्टर टीके वर्मा ने कहा कि जिला कार्यालय को पूरी तरह से सेनेटाईज किया गया है। कर्मचारियों को घर से ही काम करने के निर्देश दिए गए है। बताया जाता है कि कलेक्टोरेट में कोरोना की धमक से कलेक्टर समेत अन्य अधिकारी चिंताग्रस्त हो गए है। राजनांदगांव शहर समेत समूचे जिले में कोरोना के मामलो में कमी नही आ रही है। ऐसे में कलेक्टोरेट में कोरोना के पहुंचने से अफसर बिरादरी में अफरातफरी मच गई है।