आज 21 नवम्बर को सिद्धेश्वरनाथ मंदिर बरगढ़ में भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन जयंती मनाया जाएगा…पढ़े कौन है भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन…पढ़े पूरी खबर


खरसिया/बरगढ़:- आज बरगढ़ सिद्धेश्वर नाथ मंदिर बरगढ़ में सहस्रबाहु अर्जुन जयंती मनाया जाएगा। यह कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि यानी दीपावली के सातवें दिन को सहस्त्रबाहु अर्जुन की जयंती मनाई जाती है। और इस बार ये आज यानि कि 21 नवंबर को मनाई जा रही है।बरगढ़ में सहस्त्रबाहु का मंदिर के लिए भूमि पूजन हो चुका है। बरगढ़ सहस्रबाहु की मंदिर बनाई जाएगी।

आइये सहस्रबाहु अर्जुन के बारे में जानते है।

सहस्त्रबाहु अर्जुन का जन्म महाराज हैहय की 10वीं पीढ़ी में माता पद्मिनी के गर्भ से हुआ था। सहस्रबाहु का जन्म नाम एकवीर तथा सहस्रार्जुन भी है। उनको चंद्रवंशी क्षत्रियों में हैहय वंश सर्वश्रेष्ठ उच्च कुल का क्षत्रिय माना गया है। चन्द्र वंश के महाराजा कृतवीर्य के पुत्र होने के कारण उन्हें कार्तवीर्य-अर्जुन भी कहा जाता है।

हम आपको बता दे कि महाभारत, वेद ग्रंथों तथा कई पुराणों में सहस्रबाहु की कई कथाएं सुनने पढ़ने को मिल जाएगी। पुराने वेद और पुराणों के अनुसार प्रतिवर्ष सहस्रबाहु की जयंती कार्तिक शुक्ल सप्तमी को दीपावली के ठीक सातवे दिन को मनाई जाती है। भागवत पुराण में भगवान विष्णु व द्वारा सहस्रबाहु महाराज की उत्पत्ति की जन्मकथा का वर्णन है। उन्होंने भगवान की कठोर तपस्या करके 10 वरदान प्राप्त किए और चक्रवर्ती सम्राट की उपाधि धारण की।

सहस्रबाहु अर्जुन नाम कैसे पड़ा जानते है।

सहस्रबाहु भगवान दत्तात्रेय के भक्त थे और दत्तात्रेय की उपासना करने पर उन्हें सहस्र भुजाओं का वरदान मिला था इसीलिए उन्हें सहस्रबाहु अर्जुन के नाम से जाना जाता है। सहस्रार्जुन जयंती क्षत्रिय धर्म की रक्षा एवं सामाजिक उत्थान के लिए मनाई जाती है।

कहाँ मनाई जायेगी जयंती
सहस्रबाहु अर्जुन की जयंती 21 नवम्बर को खरसिया के समीप बरगढ़ में मनाया जाएगा। बरगढ़ वही है जहाँ भगवान शिव जी की सिद्धेश्वर नाथ की मंदिर है जहाँ पर महाशिवरात्रि के दिन 3 दिन का प्रसिद्ध मेला लगता है। यह सक्ति व खरसिया के मध्य में है।

यामेश जायसवाल बरगढ़